इटली में संकट, बर्लुस्कोनी पद छोड़ने पर राज़ी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इटली के गहराते आर्थिक संकट के बीच बर्लुस्कोनी के इस्तीफ़े की मांग बढ़ गई थी.

इटली के राष्ट्रपति ने कहा है कि देश के प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी अपने पद से इस्तीफा देने के लिए राज़ी हो गए हैं.

राष्ट्रपति का कहना था कि बर्लुस्कोनी इस बात के लिए तैयार हो गए हैं कि देश में आर्थिक सुधारों को अनुमति मिल जाने के बाद वो पद त्याग देंगे.

बर्लुस्कोनी का यह फैसला ऐसे समय में आया है जब उनकी सरकार संसद में बजट पर हुए मतदान के दौरान बहुतम खोती हुई दिखी है.

बजट पर मतदान के बाद बर्लुस्कोनी के सहयोगियों और विपक्षी दलों ने उनके इस्तीफ़े की मांग की थी.

पिछले कुछ समय में इटली के कर्ज़े बढ़े हैं और ग्रीस के बाद इटली के भी यूरोज़ोन ऋण संकट में फंसने के आसार गहरा गए हैं.

जानकारों का कहना है कि इटली पर कर्ज़ तो कम है लेकिन इटली की विकास दर बहुत ही कम है और उस पर से 1.9 खरब यूरो का खर्चा इटली को ऋण संकट में फंसा सकता है.

आर्थिक मामलों के यूरोपीय कमिश्नर ओल्ली रेह्न ने इटली की आर्थिक एवं वित्तीय स्थिति को 'गंभीर और चिंताजनक' करार दिया है.

संवाददाताओं का कहना है कि बजट से जुड़ा क़ानून इस महीने के अंत तक पारित होना था लेकिन अब इसे जल्दी पारित करने की कोशिश हो सकती है.

इससे पहले मंगलवार को हुए मतदान में बर्लुस्कोनी जीते तो थे लेकिन विपक्ष ने इसमें हिस्सा नहीं लिया था. बहुमत के लिए आवश्यक 316 सांसदों में से सिर्फ 308 सांसदों ने ही वोट डाला.

इसके बाद गठबंधन के सहयोगी दल नार्थर्न लीग के उमबर्टो बोसी और विपक्ष के नेता पियरलुइजी बेरसानी ने प्रधानमंत्री से इस्तीफ़ा देने की अपील की थी.

संबंधित समाचार