100 सुअरों का जुर्माना

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption रग्वी विश्व कप के दौरान समोआ की टीम क्वार्टर फ़ाइनल में प्रवेश नहीं कर पाई थी

समोआ की रग्बी टीम के मैनेजर के खराब व्यवहार के कारण उन पर प्रतीकात्मक रूप से 100 सुअरों का जुर्माना लगा है.

मैनेजर तुआला मैथ्यू वाया पर यह जुर्माना उनके गांव के वरिष्ठ लोगों ने लगाया है.

उनपर आरोप है कि उन्होंने अपने खराब व्यवहार से गांव 'लियाउवा' का नाम बदनाम किया है.

वाया से 'तुआला' यानी गांव के मुखिया का पद भी छीन ली गया है.

'नदारद मैनेजर'

समोआ की रग्बी टीम को मनू समोआ के नाम से भी जाना जाता है.

तुआला मैथ्यू वाया हाल ही में न्यूज़ीलैंड में संपन्न हुए रगबी वर्ल्ड कप में समोआ टीम के मैनेजर थे.

लेकिन टीम के खिलाड़ियों के मुताबिक वाया ने अपनी जिम्मेदारी ठीक ढंग से नहीं निभाई.

मनू समोआ के कप्तान मैहोन्री श्वालगर ने समोआ के प्रधान मंत्री तुईलेपा आयोनो सैलेले मैलिलेगाओई को पत्र लिखकर यह शिकायत की जिसके बाद उनके गांव के बड़े बूढ़ों ने यह फ़ैसला सुनाया.

अपनी शिकायत में श्वालगर ने कहा कि वाया विश्व कप को छुट्टी की तरह मना रहे थे और कई दफ़े वह टीम से भी नदारद रहते थे. वह अपना ज्यादातर समय शराब पीने में बिताते थे.

गंभीर आरोप

वाया पर आरोप है कि उनकी हरकतों से उनके गांव को शर्मिंदग़ी हुई है.

टीवी न्यूज़ीलैंड की पैसिफ़िक संवाददाता बार्बरा ड्रीवर ने इस मामले की गंभीरता के बारे में कहा, "आपको गांव के नियम मानने होंगे, चाहे आप कोई भी क्यों न हों. उनपर गांव का नाम बदनाम करने का आरोप है जो काफ़ी संगीन मामला है."

इन सुअरों को गांव को दान में दिया जाएगा. वाया ने इन सुअरों की क़ीमत अदा करने की बात मानी है, जो कि क़रीब 800 डॉलर है

ड्रीवर आगे कहती हैं कि इस मामले को सिर्फ़ जुर्माने से नहीं समझा जा सकता.

वह कहती हैं, "इस बात से यह भी पता चलता है कि गांववाले मनू समोआ टीम का समर्थन करते हैं. यह मनू समोआ टीम के लिए भी एक बड़ी बात है क्योंकि यह साफ़ संदेश देता है."

वाया जब समोआ वापस आए थे तो उन्हें टीम के मैनेजर के पद से भी हाथ धोना पड़ा था.

संबंधित समाचार