इतिहास के पन्नों में 28 नवंबर...

इतिहास के पन्नों को पलटें तो पाएंगें कि 28 नवंबर को ब्रिटेन की पहली महिला प्रधानमंत्री मारग्रेट थैचर ने सत्ता छोड़ी थी और नॉरवे ने दूसरी बार यूरोपीय संघ की सदस्यता को ठुकराया था.

1990: ब्रितानी ‘लौह महिला’ ने अश्रुपूर्ण अलविदा कहा

Image caption मारगरेट थैचर ब्रिटेन में लौह-महिला के नाम से चर्चित हो गई थीं.

28 नवंबर 1990 को ब्रिटेन की प्रधानमंत्री मारग्रेट थैचर ने ब्रिटेन की महारानी को अपना इस्तीफ़ा सौंपा था और डाउनिंग स्ट्रीट में अपने आवास को खाली कर दिया था.

11 साल के उनके कार्यकाल के बाद जॉन मेजर को ब्रितानी प्रधानमंत्री के रूप में चुना गया.

मारग्रेट थैचर को ब्रिटेन की लौह-महिला के नाम से जाना जाता था. वे ब्रिटेन की पहली महिला प्रधानमंत्री थी और ब्रिटेन के इतिहास में 1827 के बाद उनका कार्यकाल सबसे लंबा रहा.

सत्ता छोड़ते समय उन्होंने जब अपना बयान देना शुरू किया, तो उनकी आंखों से आंसू आ गए थे. उन्होंने पत्रकारों को कहा था कि उनके शासन के दौरान ब्रिटेन एक बेहतर देश बनने की ओर अग्रसर हुआ.

इसके बाद थैचर ने महारानी के साथ मुलाकात की और अपना इस्तीफ़ा उन्हें सौंप दिया.

अपने कार्यकाल में मारग्रेट थैचर ने कड़े रुख़ के साथ शासन किया और सोवियत संघ का विरोध भी किया था और इसी के बाद उनका नाम ‘आइरन लेडी’ यानि ‘लौह महिला पड़ गया.

1994: नॉरवे ने यूरोपीय संघ को ‘ना’ कहा

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption नॉरवे की प्रधानमंत्री ग्रो हारलेम ब्रंटलैंड नॉरवे को यूरोपीय संघ का हिस्सा बनाने के लिए प्रतिबद्ध थीं.

18 नवंबर 1994 के दिन नॉरवे ने यूरोपीय संघ की सदस्यता लेने के ख़िलाफ़ जनमत-संग्रह के ज़रिए अपना मत दिया था.

ये मतदान प्रधानमंत्री ग्रो हारलेम ब्रंटलैंड के लिए एक झटका साबित हुआ था, जिनका एक अहम लक्ष्य था नॉरवे को यूरोपीय संघ का सदस्य बनाना.

इससे पहले 1972 में भी नॉरवे ने यूरोपीय संघ की सदस्यता के ख़िलाफ़ मत दिया था, जिसके बाद तत्कालीन सरकार को सत्ता से हटना पड़ा था.

लेकिन ब्रंटलैंड ने इस्तीफ़ा देने से मना कर दिया था. हालांकि उन्हें इस बात की चिंता सता रही थी कि यूरोपीय संघ की सदस्यता के बिना वे अपने देश को आगे कैसे ले कर जाएंगीं.

फ़िनलैंड और स्वीडन ने भी तभी यूरोपीय संघ की सदस्यता ली थी, लेकिन उन देशों के फ़ैसलों का असर नॉरवे की जनता पर नहीं पड़ा था.

विश्लेषकों का कहना था कि अगर नॉरवे यूरोपीय संघ से ज़्यादा समय के लिए दूर रहता है, तो वो अकेला पड़ जाएगा.

संबंधित समाचार