इतिहास के पन्नों से

1971 में बेलफ़ास्ट में हुए बम धमाके में 10 लोगों की मौत हुई थी जबकि 1991 में लेबनान में बंधक बनाए गए आख़िरी अमरीकी नागरिक की रिहाई हुई थी.

1971: बेलफ़ास्ट में बम धमाका

Image caption इस दुर्घटना को आज भी मक्गार्क बार बॉम्बिंग के नाम से जाना जाता है.

बेलफ़ास्ट शहर में इसी दिन हुए एक भीषण बम धमाके में कम से कम 10 लोग मारे गए थे जबकि 17 अन्य घायल हुए थे.

शहर के एक लोकप्रिय पब में हुआ यह धमाका इतना ज़बरदस्त था कि पूरी इमारत इससे छतिग्रस्त हो गई थी.

जबकि कई लोग इमारत के मलबे के नीचे घंटों फंसे रहे.

धमाके में मरने वालों में छोटे बच्चे और महिलायें शामिल थीं.

दुर्घटना के कई साल बाद तक यही कहा गया कि बम धमाके की वजह थी गलती से फट गया आईआरए का एक बम.

लेकिन 1977 में इस धमाके को अंजाम देने वालों का पता तब चला जब अपनी कार से इमारत तक बम पहुंचाने वाले व्यक्ति ने बताया कि साज़िश उल्स्टर वॉलनटियर फ़ोर्स की थी.

मुक़दमे के बाद कार के उस चालाक को पंद्रह साल कैद की सज़ा सुनाई गई.

इस दुर्घटना को आज भी मक्गार्क बार बॉम्बिंग के नाम से जाना जाता है.

1991: लेबनान में आख़िरी अमरीकी बंधक रिहा

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption टेरी एन्डरसन ने रिहाई के बाद बताया कि वे उस दौरान बीबीसी रेडियो सुना करते थे.

लेबनान में सबसे लंबे समय तक बनाए गए अमरीकी बंधक टेरी एन्डरसन आज ही के दिन रिहा किए गए थे.

टेरी एन्डरसन लेबनान में बनाए गए आख़िरी बंधक थे और उनकी रिहाई पर लंबे समय से असमंजस बना हुआ था.

उन्हें लगभग साढ़े छह साल पहले बंधक बना लिया गया था और रिहाई के बाद वे अपनी पत्नी और छह वर्षीय पुत्री से मिले.

टेरी एन्डरसन ने इससे पहले अपनी पुत्री को कभी नहीं देखा था.

बंधक बनाए जाने के समय टेरी लेबनान के बेरुत शहर में बतौर एक वरिष्ठ पत्रकार काम किया करते थे.

रिहा होने के बाद उन्होंने सीरिया, लेबनान और इरान के अधिकारियों, और अपनी रिहाई के समर्थन में लगे हजा़रों समर्थकों का शुक्रिया अदा किया.

टेरी एन्डरसन ने बाद में दिए गए एक इंटरव्यू में बताया था कि कै़द के दौरान वे रेडियो सुना करते थे जिसमे बीबीसी प्रमुख था.

संबंधित समाचार