इतिहास के पन्नों में नौ दिसंबर

इतिहास में नौ दिसंबर की तारीख़ के नाम कई महत्वपूर्ण घटनाएं दर्ज हैं. इसी दिन हबल दूरबीन में आई ख़राबी को अंतरिक्ष यात्रियों ने दूर किया था और माइक गैटिंग और अंपायर शकूर राणा के झगड़े की वजह से फ़ैसलाबाद टेस्ट में खेल रूक गया था.

1993: हबल दूरबीन में आई ख़राबी दूर की गई

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption हबल दूरबीन में आई ख़राबी को ठीक किया जाना अंतरिक्ष अभियान की बड़ी क़ामयाबी थी

नौ दिसंबर 1993 को अंतरिक्ष में स्थापित हबल दूरबीन में आई ख़राबी को दूर करने में अंतरिक्ष यात्रियों को क़ामयाबी हासिल हुई थी.

दरअसल दूरबीन को ऊर्जा प्रदान करनेवाले सोलर पैनल में मामूली ख़राबी आ गई थी जिसकी वजह से उससे ली गई तस्वीरें सही नहीं आ रही थीं.

इसके चलते क़रीब डेढ़ अरब डॉलर के ख़र्च से बनाए गए हबल दूरबीन का दर्पण सपाट हो गया था.

ये खराबी भले ही मानव बाल की चौड़ाई के पचासवें भाग के बराबर हो लेकिन इस मामूली ख़राबी की वजह से उससे जो तस्वीरें ली जा रही थीं उनका फ़ोकस गड़बड़ हो गया था और तस्वीरें वैसी ही नज़र आ रही थीं जैसे कि धरती से खींची गई हों.

सात सदस्यीय अंतरिक्ष यात्रियों को इसी दर्पण को 'कॉन्टैक्ट लेंस' के बराबर का लेंस लगाकर ठीक करना था ताकि उसका केंद्र ठीक हो सके.

इस अभियान में दूरबीन के दस अन्य ख़राब पुर्ज़े या तो बदले गए या उनकी मरम्मत की गई.

हबल दूरबीन की मरम्मत का काम सफलतापूर्वक संपन्न हो जाना नासा की बड़ी क़ामयाबी थी क्योंकि इससे पहले ऐसे कई अंतरिक्ष अभियान असफल रहे थे.

1987: गैटिंग विवाद ने पाकिस्तान में खेल रोका

Image caption इंग्लैंड के कप्तान माइक गैटिंग को बाद में माफ़ी मांगनी पड़ी थी

इंग्लैंड के कप्तान माइक गैटिंग और पाकिस्तानी अंपायर शकूर राणा के बीच हुए विवाद की वजह से नौ दिसंबर को इंग्लैंड टीम के पाकिस्तान दौरे को ही रद्द करने की नौबत आ गई थी.

एक दिन पहले शकूर राणा और माइक गैटिंग के बीच फ़ैसलाबाद टेस्ट में अंपायर के फ़ैसले को लेकर बहस हो गई थी.

गैटिंग का आरोप था कि शकूर राणा पाकिस्तान के पक्ष में फ़ैसले दे रहे थे.

इस घटना के बाद शकूर राणा ने दूसरे दिन तब तक मैदान में जाने से इनकार कर दिया था जब तक गैटिंग उनसे माफ़ी नहीं मांग लेते.

उधर गैटिंग इस बात पर अड़े हुए थे कि शकूर राणा उनसे माफ़ी मांगें.

बहरहाल इंग्लैंड की टीम मैदान पर इंतज़ार करती रही लेकिन अंपायर पैविलियन में ही बने रहे.

इंग्लैंड के खिलाड़ी गैटिंग का पूरा समर्थन कर रहे थे.

अगले दिन पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने गैटिंग को आदेश दिया कि वो शकूर राणा से माफ़ी मांगें.

गैटिंग ने माफ़ी मांगी और फिर खेल शुरू हो सका.

लेकिन इस घटना ने दोनों देशों के रिश्तों में खटास पैदा कर दी.

इसके बाद इंग्लैंड ने साल 2000 तक पाकिस्तान का दौरा नहीं किया.

संबंधित समाचार