ईरान ने गिराए अमरीकी ड्रोन का वीडियो दिखाया

अमरीकी ड्रोन का निरीक्षण करते ईरानी अधिकारी इमेज कॉपीरइट na
Image caption ईरान का दावा है कि उसने अफ़ग़ानिस्तान से लगी सीमा पर इस ड्रोन को उतारा

ईरानी टेलिविज़न ने उस अमरीकी ड्रोन का वीडियो दिखाया है जिसे ईरान ने अफ़ग़ान सीमा के पास गिराने का दावा किया है.

तस्वीरों में दिखाया गया है कि ईरानी सैनिक अधिकारी आरक्यू-170 सेंटिनेल ड्रोन का निरीक्षण कर रहे हैं और वो ड्रोन ज़्यादा क्षतिग्रस्त नहीं दिख रहा है.

अमरीकी अधिकारी मान चुके हैं कि उनका एक मानवरहित विमान गिर गया था मगर कहा था कि उसमें कुछ गड़बड़ी आ गई थी.

मगर ईरानी अधिकारियों का कहना है कि उसकी सेना ने इलेक्ट्रॉनिक तरीक़े से ड्रोन अपने क़ब्ज़े में लेकर उसे ज़मीन पर उतार लिया.

सुरक्षा मामलों के बीबीसी संवाददाता फ़्रैंक गार्डनर का कहना है कि जिस तरह सेंटिनेल ठीक-ठाक हालत में दिख रहा है उससे ईरानी दावों को ही मज़बूती मिलती है.

ईरान के प्रेस टीवी ने कहा कि ईरानी सेना की इलेक्ट्रॉनिक युद्धक टुकड़ी ने ड्रोन को चार दिसंबर को उतारा था. उस समय वह अफ़ग़ान सीमा से लगभग सवा दो सौ किलोमीटर दूर काशमार शहर के ऊपर उड़ रहा था.

नेटो ने कहा था कि एक मानवरहित विमान पश्चिमी अफ़ग़ानिस्तान के ऊपर उड़ रहा था जबकि उसे चलाने वाले उसका नियंत्रण खो बैठे.

पेंटागन के अधिकारियों का कहना है कि वे लोग इस बात से चिंतित हैं कि ईरान इस ड्रोन की प्रौद्योगिकी ले सकता है.

ईरानी मीडिया ने गुरुवार को कहा था कि विदेश मंत्री ने स्विट्ज़रलैंड के राजदूत को बुलाकर अपनी वायुसीमा में अमरीकी टोही ड्रोन की उड़ान पर कड़ा ऐतराज़ जताया था.

दरअसल अमरीका के साथ ईरान का कोई कूटनीतिक रिश्ता नहीं है और ईरान में अमरीका से जुड़े मसले तेहरान स्थित स्विट्ज़रलैंड के दूतावास के ज़रिए निबटाए जाते हैं.

एक बयान के अनुसार मंत्रालय ने तुरंत घटना पर स्पष्टीकरण माँगा है और साथ ही अमरीका से हर्ज़ाना देने के लिए भी कहा है.

न्यूयॉर्क टाइम्स अख़बार में गुरुवार को आई एक रिपोर्ट में कहा गया था कि वो ड्रोन ईरान के संदिग्ध परमाणु क्षेत्रों पर नज़र रखने के अमरीकी कार्यक्रम का हिस्सा था.

अमरीका और उसके सहयोगी देशों का ईरान पर आरोप है कि वह गुपचुप तरीक़े से परमाणु हथियार विकसित कर रहा है जबकि ईरान इन आरोपों से पूरी तरह इनकार करता है.

संबंधित समाचार