ब्रिटेन यूरोपीय संघ का ज़रूरी सदस्य: मर्केल

मर्केल इमेज कॉपीरइट AP
Image caption चांसलर एंगेला मर्केल का कहना है कि इस संकट से जूझकर एक मज़बूत और स्थिर यूरोप उभरेगा

चांसलर एंगेला मर्केल ने जर्मनी के सांसदों से कहा है कि यूरोपीय संघ के बैठक में ज़रूरी समझौते पर हस्ताक्षर नही करने के बावजूद ब्रिटेन संघ का एक मज़बूत सदस्य बना रहेगा.

जर्मन संसद (बूंदेस्टैग) में एंगेला मर्केल ने कहा कि उन्हे काफ़ी निराशा है कि ब्रिटेन आर्थिक संगठन के रास्ते पर यूरोपीय संघ के बाकी देशों के साथ नही चल पाया.

पिछले हफ़्ते संघ के 27 सदस्यों में से 26 ने नए आर्थिक नियमों का समर्थन किया था जबकि अकेले ब्रिटेन ने इस पर वीटो का इस्तेमाल किया था.

ब्रिटेन ने कहा था कि यूरोपीय संघ के नए आर्थिक समझौते से उसके हित को नुकसान पहुँच सकता है.

यूरो का मूल्य 1.34 डॉलर और 0.84 पाउंड के निम्नतम स्तर पर आ चुका है. यूरोज़ोन की अनिश्चित्ता से गिरी यूरो की क़ीमत 11 महीनों में सबसे कम पर है.

'अल्पकालिक समझौता'

यूरोपीय संघ का ये समझौता ग्रीस, इटली और कई यूरोज़ोन देशों में आई आर्थिक तंगी का नतीजा है. इस समझौते के तहत आर्थिक नीयम और कड़े किए जाने थे ताकि यूरोज़ोन देश आगे और संकट में न फंसे.

बर्लिन में मौजूद बीबीसी संवाददाता स्टीफ़न इवांस का कहना है कि चांसलर ने जो जानकारियां दी हैं उससे बाज़ार फ़ौरी तौर पर संकट से उबर सकता है.

हालाँकि एंगेला मर्केल का साफ़ इशारा है कि उनकी प्राथमिकता यूरोपीय संघ के मुख्य सदस्यों को साथ लाकर मज़बूती के साथ आगे बढ़ना है.

चांसलर ने कहा है कि ब्रिटेन के वीटो के बाद यूरोपीय संघ के देशों ने एक सर्वसम्मत समझौता होने तक 'अल्पकालिक समझौते' पर सहमति जताई है.

एंगेला मर्केल ने कहा, ''मुझे यक़ीन है कि अगर हम धैर्य और सहनशक्ति के साथ आगे बढ़े, अगर हम विशम परिस्थितियों को हम पर हावी ना होने दे, अगर हम वाकई में आर्थिक और मुद्रा संगठन की तरफ़ बढ़े तो फ़िर अपने लक्ष्य पर पहुँच जाएंगे.''

उनके अनुसार नियम तोड़ने वाले देशों पर अपने आप जुर्माना लग जाएगा. मर्केल ने कहा कि यूरोपीय संघ को अलग अलग देशों के कानून के बीच सामन्जस्य भी बनाना पड़ेगा.

एंगेला मर्केल ने कहा, ''हमें खेद है कि ब्रिटेन इस यात्रा में हमारे साथ नही चल पाएगा. लेकिन मेरा ये मानना है कि ब्रिटेन यूरोपीय संघ का एक ज़रूरी सदस्य है.''

चांसलर मर्केल का कहना है कि इस संकट से जूझकर एक मज़बूत और स्थिर यूरोप सामने आएगा.

संबंधित समाचार