मैनिंग ने जांच अधिकारी पर पक्षपात का आरोप लगाया

मैनिंग इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ब्रैडली मैनिंग पर सेना से जुड़े सात लाख 20 हज़ार दस्तावेज़ लीक करने के आरोप है

अमरीका के एक सैन्य अधिकारी ने विकीलीक्स को गोपनीय जानकारी मुहैया करवाने के मामले में अभियुक्त, अमरीकी सेना के विशेष अधिकारी ब्रैडली मैनिंग की सुनवाई से खुद को अलग करने की अपील को ठुकरा दिया है.

ब्रैडली मैनिंग पर विकीलीक्स को खुफ़िया सरकारी जानकारियां लीक करने से संबंधित 22 मामलें दर्ज हैं. आगे की सुनवाई में ये तय होना है कि मैनिंग के खिलाफ़ मुक़दमा चलेगा या नहीं.

माना जा रहा है कि अगले पांच दिनों तक चलने वाली इस सुनवाई के दौरान अभियोग और बचाव पक्ष दोनों गवाहों के साथ अदालत में जिरह करेंगे.

पक्षपात का आरोप

इराक़ में मई 2010 में गिरफ्तारी के बाद ये पहला मौका होगा जब ब्रैडली मैनिंग के वकील अदालत में उनका पक्ष रखेंगे.

इस मामले की सुनवाई कड़ी सुरक्षा के बीच मैरीलैंड के फ़ोर्ट-मीड सैनिक छावनी में हो रही है.

अदालत में कार्यवाही के दौरान मैनिंग के वकील डेविड कूंब्स ने आश्चर्यजनक तौर पर मामले की जांच कर रहे अधिकारी कर्नल पॉल अल्मांज़ा पर पक्षपात का आरोप लगाया और उन्हें इस मामले से अलग होने को कहा.

लेकिन कर्नल अल्मांज़ा ने बचाव पक्ष की मांग को मानने से इनकार कर दिया.

सज़ा

मैनिंग पर दुश्मन की मदद करने का भी आरोप है जिसकी सज़ा मौत भी हो सकती है. हालाँकि खबरों के अनुसार अभियोग पक्ष मैनिंग के लिए सिर्फ़ जेल की सज़ा की मांग करेंगे.

मैनिंग पर कम से कम 72 हज़ार से ज़्यादा गुप्त सरकारी सैन्य दस्तावेज़ों को अपने पास रखने और उन्हें सार्वजनिक करने का आरोप है.

बचाव पक्ष ये पता लगाने की कोशिश करेगा कि क्या मैनिंग का विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज से कोई संबंध है?

जूलियन असांज पर भी यौन उत्पीड़न के आरोप लग चुके हैं. उनका प्रत्यर्पण ब्रिटेन से स्वीडन किए जाने के लिए अदालत में मुक़दमा जारी है.

गिरफ़्तारी की निंदा

मैनिंग की गिरफ्तारी तब हुई थी जब एक इंटरनेट हैकर अमरीकी अधिकारियों के सामने उन सबूतों के साथ पेश हुआ जिनमें मैनिंग ने दस्तावेज़ चोरी करने की बात स्वीकार की थी.

हालांकि इस आधार पर मैनिंग को गिरफ्तारी किए जाने के लिए अमरीका और बाहर के देशों में काफी निंदा हुई है.

सरकारी प्रवक्ता पी जे क्राउली ने इसके विरोध में अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था और कई ब्रितानी नेताओं ने भी इसकी भर्त्सना की थी.

मैनिंग को साल 2010 जुलाई में क्वानटिको के जेल में रखा गया था लेकिन अप्रैल 2011 में उन्हे फोर्ट लेवनवर्थ जेल में भेज दिया गया था.

संबंधित समाचार