इसराइल ने फ़लस्तीनी बंदियों को रिहा किया

 सोमवार, 19 दिसंबर, 2011 को 02:56 IST तक के समाचार

गिलाद शलित को अक्टूबर में रिहा किया गया था

इसराइल ने फ़लस्तीन के 550 बंदियों को रिहा कर दिया है. फ़लस्तीन के लोगों ने झंडे लहराकर इन रिहा कैदियों की देश वापसी का गर्म जोशी से स्वागत किया.

गज़ा में क़ैद इसराइली सैनिक गिलाद शलित की रिहाई के बदले इसराइल ने हज़ारों फ़लस्तीनी बंदियों को छोड़ने का वादा किया था.

उसी समझौते के तहत दूसरे चरण में ये 550 बंदी रिहा किए गए. पहले चरण में अक्तूबर में 447 फ़लस्तीनी बंदी आज़ाद किए गए थे.

लेकिन पहले चरण की रिहाई के दौरान इसराइल में जिस तरह का गुस्सा और विवाद देखा गया था, वैसा इस बार नही देखा गया.

इसराइली अधिकारियों का कहना है कि जिन बंदियों को छोड़ा गया है उनके हाथ ख़ून से रंगे नही थे.यानि उन पर हत्या का इल्ज़ाम नहीं था.

फ़लस्तीन के ये नागरिक इसराइल की जेलों में क़ैद थे.

क्लिक करें विश्लेषण: हज़ार के बदले एक का गणित

रिहाई का अंतिम चरण

गिलाद शलित को साल 2006 में हमास के चरमपंथियों ने अग़वा कर लिया गया था.

मिस्र की मध्यस्थता में पाँच साल तक चली बातचीत के बाद इसराइल और हमास एक समझौते पर पहुँचे थे.इस समझौते के तहत गिलाद शलित की रिहाइ के बदले ले फ़लस्तीन के हज़ार बंदियों को रिहा किया जाना था.

बाद में इस समझौते को इसराइल की सुप्रीम कोर्ट ने अपनी मंजूरी दी थी.

देश की सबसे ऊंची अदालत ने ये फैसला एक याचिका की सुनवाई करते हुए किया था जिसमें इसराइली शहरियों पर हमले और हत्या के दोष में सज़ा काट रहे फ़लस्तीनियों को छोड़े जाने का विरोध किया गया था.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.