लीबिया: सेना, पुलिस में शामिल होंगे 'विद्रोही'

लीबिया अंतरिम सरकार इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption युद्ध समाप्ति के बाद भी जारी 'विद्रोहियों' की कार्रवाई से अंतरिम सरकार को अंतरराष्ट्रीय निंदा झेलनी पड़ी है.

लीबिया की अंतरिम सरकार का कहना है कि पूर्व विद्रोहियों को सेना में शामिल करने के लिए एक नई योजना लागू की जा रही है.

एक मंत्री का कहना है कि अगले महीने से शुरू होने वाली योजना में सभी विद्रोहियों से कहा जाएगा कि वो सुरक्षाबलों में शामिल होने के लिए पंजीकरण करवाएं.

पंजीकरण का काम जनवरी भर जारी रहेगा.

अगस्त में विद्रोह की समाप्ति के बाद से कुछ विद्रोही मिलिशिया समूहों पर अपना प्रभूत्व स्थापित करने और देश के पूर्व नेता कर्नल गद्दाफ़ी के समर्थकों के विरूद्ध बदले की लड़ाई जारी रखने के आरोप लगते रहे हैं.

सत्ता में ख़ालीपन

लीबिया में हुए विद्रोह में देश की सत्ता पर चार दशकों से अधिक समय तक राज करने वाले कर्नल गद्दाफ़ी की मौत हो गई थी.

बीबीसी संवाददाता युसुफ़ ताहा का कहना है कि उनकी मौत के बाद सत्ता में आए एक तरह के ख़ालीपन, और सेना और पुलिस की कमी के कारण विद्रोहियों को इन हमलों के लिए मौक़े और आसानी से प्राप्त हुए.

लीबिया की अंतरिम सरकार के आंतरिक मामलों के मंत्री ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि 25,000 लोग उनके साथ शामिल होंगे.

उनका कहना था कि इतने ही लोग सेना में भी शामिल हो सकते हैं.

कर्नल गद्दाफ़ी ने अपने शासनकाल में सेना को कमज़ोर रखा था और सुरक्षा की ज़िम्मेदारी उनके बेटों और कुछ सलाहकारों के पास थीं.

संबंधित समाचार