गोर्बाचोव ने पुतिन से पद छोड़ने को कहा

गोर्बाचेफ़ इमेज कॉपीरइट RIA Novosti
Image caption गोर्बाचेफ़ आम तौर पर पुतिन के समर्थक रहे हैं. लेकिन संसदीय चुनावों में गड़बड़ी के विपक्ष के आरोपों के चलते वह एकदम से उनके खिलाफ़ हो गए हैं.

बीस साल पहले सोवियत संघ के राष्ट्रपति पद से इस्तीफ़ा देने वाले मिख़ाइल गोर्बाचोव ने व्लादिमीर पुतिन से कहा है कि अब उनके कड़वा घूँट पीने का वक्त आ गया है.

यह स्वीकार करने के बाद कि जिसे बचाने लिए उन्होंने कई सुधार किए थे वह देश अब नहीं रहा था, गोर्बाचोव ने 25 दिसंबर 1991 को अपनी मर्ज़ी से इस्तीफा दे दिया था.

लेकिन पुतिन के शासन के खिलाफ़ शनिवार को रूस में हुए अब तक के सबसे बड़े प्रर्दशन के बाद गोर्बाचोव देश के सबसे अधिक प्रतिष्ठित लोगों में से हैं जिन्होंने यह कहा है कि उन्हें इस्तीफ़ा दे देना चाहिए.

'तीन कार्यकाल काफ़ी'

पुतिन से साल 2012 में राष्ट्रपति के पद के लिए इरादा छोड़ने का आग्रह करते हुए गोर्बाचोव ने कहा, ''मैं व्लादिमीर पुतिन को पद छोड़ने की सलाह देना चाहूँगा. उनके तीन कार्यकाल हो चुके हैं--दो राष्ट्रपति के तौर पर और एक प्रधानमंत्री के तौर पर. तीन कार्यकाल काफ़ी हैं.''

उन्होंने कहा, ''उन्हें वही करना चाहिए जो मैंने किया था. इससे वह उन सब सकारात्मक कामों को सुरक्षित रख पाएंगे जो उन्होंने की हैं.''

गोर्बाचोव आम तौर पर पुतिन के समर्थक रहे हैं. लेकिन संसदीय चुनाव में गड़बड़ी के विपक्ष के आरोपों के चलते वह एकदम से उनके ख़िलाफ़ हो गए हैं.

संबंधित समाचार