बर्फ़बारी के बाद उत्तर भारत में तेज़ हुई शीतलहर

ठंड और शीतलहर इमेज कॉपीरइट Reuters

कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में बर्फ़बारी के बाद उत्तर भारत ठंड की गिरफ़्त में है. पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी के कारण शीतलहर का प्रकोप और भी बढ़ गया है.

जवाहर सुरंग के दोनों तरफ़ भारी बर्फबारी से कश्मीर का देश के बाकी हिस्सों से सड़क-संपर्क टूट गया है. कश्मीर में बिजली सप्लाई पर भी बुरा असर पड़ा है.

जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर क़रीब डेढ़ हज़ार से ज़्यादा वाहन कई जगहों पर फंसे हुए हैं. पंजाब में बारिश के साथ बारह किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चल रही सर्द हवाओं ने लोगों को कंपा दिया है.

राजधानी दिल्ली भी शीतलहर की चपेट में है लेकिन यहां लोगों को कोहरे से कुछ राहत मिली हुई है.दिल्ली और आसपास के इलाकों में तापमान सामान्य से पांच डिग्री उपर रहा लेकिन धूप नहीं खिली और रात में रुक-रुक कर हो रही बारिश ने ठंड की ठिठुरन को बढ़ाने का काम किया.

पिछले दो दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश के कारण पूरे उत्तर भारत में ठंड अपनी चरम पर है.

कई लोगों की मौत

Image caption ज्य़ादातर ग़रीब लोगों के पास ठंड से बचने का एकमात्र साधन ये अलाव है

दिल्ली में कोह़रे के कारण सड़क और रेल यातायात के अलावा हवाई सेवा पर भी असर पड़ा है. दिल्ली के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर घने कोहरे के कारण कम से कम 50 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में देरी हुई और करीब तीन घंटे तक हवाई सेवा बाधित रही.

कोहरे के कारण दिल्ली हवाई-अड्डे के रनवे पर विज़िबिलीटी 50 मीटर हो गई तो सामान्य विज़ीबिलीटी शून्य तक पहुंच गई.

कई रेलगाड़ियों को भी स्थगित करना पड़ा और कुछ को नए समय पर चलाया गया.

शीतलहर के कारण पिछले एक महीने में पूरे उत्तर भारत में अब तक 204 लोगों की मौत हुई है.

संबंधित समाचार