कुशवाहा के ठिकानों पर सीबीआई छापे

मायावती इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने हाल के दिनों में अपने कई मंत्रियों को बर्ख़ास्त किया है

केंद्रीय जाँच ब्यूरो यानी सीबीआई ने राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के लिए आबंटित धनराशि में कथित अनियमितताओं की जांच के सिलसिले में पाँच नए मामले दर्ज़ करने के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व परिवार कल्याण मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के लखनऊ स्थित आवास पर बुधवार को छापे मारे.

इस मामले में उत्तर प्रदेश के अलावा दिल्ली और हरियाणा में भी कई जगहों पर छापे की कार्रवाई की गई है. सीबीआई ने इस घोटाले में जो प्राथमिकी दर्ज कराई थी, उसमें बतौर अभियुक्त बाबू सिंह कुशवाह का नाम भी शामिल है.

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने बाबू सिंह कुशवाहा को बर्ख़ास्त कर दिया था जिसके बाद उन्होंने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया.

बीजेपी सुरक्षा कवच नहीं है

बाबू सिंह कुशवाहा के ठिकानों पर सीबीआई छापों के संबंध में बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुख़्तार अब्बास नक़वी ने कहा, ''एक साहब कल ही हमारी पार्टी में शामिल हुए और आज आनन-फानन में उनके ख़िलाफ़ सीबीआई की कार्रवाई हो रही है."

नक़वी का कहना था, "हम इसका किसी तरह का विरोध नहीं कर रहे हैं, अगर कोई दोषी है तो उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई होनी चाहिए. भारतीय जनता पार्टी किसी भ्रष्टाचार, किसी घोटाले के लिए सुरक्षा कवच नहीं है.''

उन्होंने कहा, ''लेकिन क्या ये घोटाला आज का है, क्या 24 घंटे के अंदर ये घोटाला हुआ है, क्या इस घोटाले से जुड़े दस्तावेज़ उन साहब के भारतीय जनता पार्टी के मंच पर आने के एक-दो घंटे के भीतर सीबीआई के पास पहुँचे हैं."

नक़वी ने सवाल उठाते हुए कहा, "क्या वो तमाम लोग जो मुख्यमंत्री और उनसे जुड़े हुए हैं उनके ख़िलाफ़ सीबीआई ने इससे पहले कोई कार्रवाई की है, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस का एक ख़तरनाक गठजोड़ हुआ है और ये कार्रवाई चुनकर की गई है.''

संबंधित समाचार