मेहदी हसन के इलाज के लिए मदद की पेशकश

मेहदी हसन
Image caption मेहदी हसन भारत और पाकिस्तान में समान रूप से लोकप्रिय हैं

मशहूर ग़ज़ल गायक और पाकिस्तानी नागरिक मेहदी हसन के इलाज के लिए भारत के राजस्थान राज्य की सरकार ने मदद की पेशकश की है.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मेहदी हसन के बेटे आरिफ़ हसन से बात की है और भारत में चिकित्सा ख़र्चों के साथ मदद की पेशक़श की है.

मेहदी हसन को श्वसन तंत्र में तक़लीफ़ के बाद कराची के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उन्हें जीवन-रक्षक प्रणाली पर रखा गया है.

राजस्थान के लूणा गांव में जन्मे 84 वर्षीय मेहदी हसन भारत और पाकिस्तान में बेहद लोकप्रिय हैं.

लूणा से मिल रही ख़बरों में कहा गया है कि गांव के लोग उनके स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं.

पेशकश

राजस्थान में अधिकारियों का कहना है कि मुख्यमंत्री गहलोत ने राज्य के मुख्य सचिव एस अहमद को मेहदी हसन के परिवार से सम्पर्क में रहने और ज़रूरी मदद मुहैया कराने का आदेश दिया है.

मेहदी हसन आख़िरी बार वर्ष 2000 में राजस्थान तब आए थे जब राज्य सरकार ने उन्हें अनिवासी राजस्थानियों के एक सम्मेलन में आमंत्रित किया था.

तब मेहदी हसन ने लूणा में अपने मरहूम दादा इमामुद्दीन की क़ब्र पर जाकर प्रार्थना की थी.

लूणा गांव के लोगों का कहना है कि मेहदी हसन बचपन में पाकिस्तान गए थे और उसके बाद से तीन बार यहां आ चुके हैं.

मेहदी हसन ने लूणा गांव में एक सरकारी स्कूल में दो कमरों के निर्माण में भी मदद दी थी.

वे पिछले कुछ सालों से बीमार हैं. उन्हें फेफड़ों में तक़लीफ़ है. वर्ष 2005 में भारत में उनका उपचार भी किया गया था.

मेहदी हसन के संगीत को भारत और पाकिस्तान में बड़े सम्मान के साथ देखा जाता है. भारत की जानी-मानी गायिका लता मंगेशकर ने उनकी आवाज़ को ख़ुदा की आवाज़ बताया था.

मेहदी हसन ने पचास वर्ष से ज़्यादा समय पहले अपने करियर की शुरूआत की थी लेकिन पहले बड़े मौक़े के लिए उन्हें कई बरस इंतज़ार करना पड़ा था.

संगीत के बड़े दिग्गज़ों ने उन्हें ग़ज़ल सम्राट के ख़िताब से भी नवाज़ा.

संबंधित समाचार