चालक दल ने हादसे की गंभीरता नहीं बताई

दुर्घटनाग्रस्त जहाज़ इमेज कॉपीरइट afp
Image caption आरोप है कि दुर्घटनाग्रस्त जहाज़ के कप्तान ने भी यात्रियों से पहले जहाज़ छोड़ दिया था

इटली में जारी एक ऑडियो टेप से पता चलता है कि कोस्टा कॉन्कोर्डिया जहाज़ के चट्टानों से टकराने के आधे घंटे बाद भी चालक दल के सदस्यों ने कोस्ट गार्ड्स को आश्वस्त किया था कि कोई आपात स्थिति नहीं है.

इस बीच ख़राब मौसम की भविष्यवाणी के बीच कोस्टा कॉन्कोर्डिया में एक बार फिर बचाव कार्य शुरु हो गया है और अब तक लापता 20 लोगों की तलाश की जा रही है.

बुधवार को जहाज़ के गहरे समुद्र की ओर खिसकने की आशंका के बाद बचाव कार्य रोक दिया गया था.

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को इटली के समुद्री तट के पास इस जहाज़ के चट्टानों से टकराने के बाद ये डूब गया था. इसमें सवार चार हज़ार से अधिक लोगों को बचा लिया गया था लेकिन 11 लोग मारे गए थे और 20 अब तक लापता हैं.

चालक दल ने गुमराह किया

एक इतालवी टेलीविज़न चैनल ने यह नया ऑडियो टेप जारी किया है.

टीवी चैनल का कहना है कि ये ऑडियो कोस्ट गार्ड्स और चालक दल के सदस्यों के बीच बातचीत का है और ये बातचीत उस समय हुई थी जब जहाज़ का डूबना शुरु हो गया था.

इस टेप के अनुसार कोस्ट गार्ड ने चालक दल से पूछा था कि सब ठीक तो है क्योंकि यात्रियों ने ख़बर दी थी कि एक बड़ा झटका लगा है और सभी यात्रियों को लाइफ़ जैकेट पहनने को कहा गया है, इस पर चालक दल ने कहा कि बिजली में कोई ख़राबी है, बाक़ी सब ठीक है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बचावकर्मी एक-एक मंज़िल की तलाशी ले रहे हैं

चालक दल के सदस्यों ने कोस्ट गार्ड्स को कभी नहीं बताया कि जहाज़ डूब रहा था.

बीबीसी संवाददाता एलन जॉन्सटन का कहना है कि इस बातचीत से पता नहीं चलता कि स्थिति कितनी गंभीर थी.

बचाव कार्य

उधर एक दिन स्थगित रहने के बाद कोस्टा कॉन्कोर्डिया में बचाव कार्य एक बार फिर शुरु किया गया है.

बुधवार को जहाज़ के गहरे समुद्र की ओर खिसकने की आशंका पैदा हो गई थी जिससे बचाव कार्य रोक दिया गया था. अब अधिकारी कह रहे हैं कि जहाज़ एक बार फिर स्थिर हो गया है.

बचाव दल के सदस्यों ने अब जहाज़ की चौथी मंज़िल पर अपनी तलाश पूरी कर ली है.

अधिकारियों का कहना है कि अब दूसरी जगहों पर प्रवेश के लिए कुछ स्थानों पर विस्फोट करके रास्ता बनाया जाएगा.

बचाव दल के सदस्य इस जहाज़ के फ़्य़ूल टैंक से ईंधन भी निकाल रहे हैं जिससे कि किसी संभावित पर्यावरणीय हादसे को टाला जा सके.

संबंधित समाचार