इतिहास के पन्नों में 25 जनवरी

ईदी अमीन इमेज कॉपीरइट PA
Image caption ईदी अमीन ने सैन्य तख़्तापलट करके युगांडा के राष्ट्रपति को हटा दिया

इतिहास में 25 जनवरी का दिन एक विनाश की आहट लेकर आया तो एक जगह प्राकृतिक विनाश लाया

1971- ईदी अमीन ने युगांडा के राष्ट्रपति को हटाया

जनरल ईदी अमीन ने युगांडा को 1962 में स्वतंत्रता दिलाने वाले राष्ट्रपति मिल्टन ओबोटे को हटाकर सत्ता पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

राष्ट्रपति जब सिंगापुर में राष्ट्रमंडल देशों के सम्मेलन में हिस्सा लेने गए थे कि उसी दौरान जनरल ने सैनिक तख़्ता पलट करके सत्ता पर क़ब्ज़ा कर लिया.

युगांडा के सैनिकों ने एंटेबे हवाई अड्डे पर क़ब्ज़ा कर लिया. राजधानी कंपाला की सड़कों पर टैंक और सैनिक घूम रहे हैं.

राष्ट्रपति आवास को घेर लिया गया है और सभी प्रमुख सड़कें ब्लॉक कर दी गई हैं.

डॉक्टर ओबोटे 1962 में देश के पहले प्रधानमंत्री बने थे. उस समय सर एडवर्ड मुतेसा राष्ट्रपति बने. चार साल बाद ओबोटे ने उन्हें हटाकर संविधान में परिवर्तन किया और ख़ुद राष्ट्रपति बन बैठे.

जनरल अमीन सात साल तक युगांडा के हैवीवेट मुक्केबाज़ी चैंपियन रहे और सेना में अधिकतर समय सार्जेंट के पद पर रहे मगर जैसे ही ओबोटे राष्ट्रपति बने उन्होंने अमीन को सेना प्रमुख बना दिया.

युगांडा रेडियो पर हुए प्रसारण में ओबोटे सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया. इस प्रसारण के बाद कंपाला की सड़कों पर लोग ख़ुशियाँ मनाते दिखे.

वैसे सेना ने रात का कर्फ़्यू लगा दिया था. ओबोटे उसी रात कीनिया में नैरोबी हवाई अड्डे पर पहुँचे जहाँ से वह एक होटल ले जाए गए. उन्होंने वहाँ कीनियाई उपराष्ट्रपति आरप मोरी से चर्चा की.

1999- कोलंबिया में भूकंप में सैकड़ों की मौत

कोलंबिया में आए एक भूकंप में 300 लोगों की मौत हो गई जबकि एक हज़ार लोग घायल हुए.

कोलंबिया में पिछले 16 वर्षों में आया ये सबसे बड़ा भूकंप था. रिक्टर पैमाने पर उसकी तीव्रता छह मापी गई थी. भूकंप के बाद आए झटके राजधानी बोगोटा तक महसूस किए गए.

भूकंप का असर देश में कॉफ़ी उगाने वाले क्षेत्र पर प्रमुख रूप से हुआ जबकि राजधानी बोगोटा में कई इमारतें, होटल और ऐतिहासिक चर्च ध्वस्त हो गए.

बड़ी संख्या में लोग मलबे में दब गए या फिर भूकंप के बाद आए भूस्खलन का शिकार हो गए. हज़ारों लोग इसके बाद बेघर हो गए.

अर्मीनिया और परेरा इलाक़ों की राजधानी सबसे बुरी तरह प्रभावित हुई. फ़ोन और बिजली संपर्क टूट गया. कोलंबियाई अधिकारियों ने बचावकर्मियों के काम में मदद के लिए दिन का कर्फ़्यू भी लगा दिया.

संबंधित समाचार