हक्क़ानी की यात्रा पर लगी रोक हटी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption हक्क़ानी अपने परिवार से मिलने अमरीका जाएंगे

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने अमरीका में देश के पूर्व राजदूत हुसैन हक्क़ानी की यात्रा पर लगाए अपने प्रतिबंध को हटा दिया है. सु्प्रीम कोर्ट विवादित मेमो कांड में हक्क़ानी की भूमिका की जांच कर रहा है.

हुसैन हक्क़ानी ने बिना दस्तख़त वाले इस विवादित मेमो का ड्रॉफ़्ट तैयार करने में किसी तरह की भूमिका से इनक़ार किया है.

इस मेमो में पाकिस्तान में सैन्य तख़्तापलट होने की दशा में अमरीका से मदद मांगी गई थी.

इस मेमो पर पाकिस्तान के सैन्य नेतृत्व ने कड़ी आपत्ति जताई थी जिसके बाद हक्क़ानी को अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था.

तनाव कम करने का प्रयास

मेमो कांड अभी भी सेना और सरकार के बीच दरार की वजह बना हुआ है.

विश्लेषकों का कहना है कि हक्क़ानी की यात्रा पर लगे सुप्रीम कोर्ट के प्रतिबंध को हटाने से सेना और सरकार के बीच तनाव कम हो सकता है.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़, सुप्रीम कोर्ट ने ये आदेश हक्क़ानी के वकील की इस गांरटी पर दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि ज़रूरत पड़ने पर हक्क़ानी चार दिन के नोटिस पर कोर्ट के सामने हाज़िर हो जाएंगे.

हक्क़ानी का कहना है कि उन्होंने सत्तारूढ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श किया है और अब वे अपने परिवार से मिलने अमरीका जाएंगे.

संबंधित समाचार