इतिहास के पन्नों में दस फ़रवरी

इतिहास के पन्नों को पलट कर देखें तो पाएंगे कि दस फ़रवरी के दिन कई अहम घटनाएं दर्ज हैं.

1952: भारत के पहले आम चुनाव में कांग्रेस पार्टी की भारी जीत

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जवाहरलाल नेहरू 1964 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे.

आज ही के दिन 1952 में ब्रिटेन से आज़ादी मिलने के बाद भारत में होने वाले पहले लोक सभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को भारी जीत हासिल हुई थी.

कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व उस समय तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू कर रहे थे.

उस चुनाव में कांग्रेस पार्टी को 489 सीटों में से 249 सीटें हासिल हुईं थीं.

1947 में अंग्रेंज़ों के चले जाने के बाद जवाहरलाल नेहरू आंतरिक सरकार के प्रधानमंत्री बने लेकिन 1952 में हुए पहले आम चुनाव में भी नेहरू का जलवा बरक़रार रहा और उनके नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी ने शानदार जीत हासिल की.

उस चुनाव में लगभग 18 हज़ार उम्मीदवार मैदान में थे और कुल 18 करोड़ मतदाता में से लगभग 10 करोड़ लोगों ने अपने मतों का प्रयोग किया था.

कांग्रेस ने लगभग हर राज्य में जीत हासिल की थी लेकिन तत्कालीन दक्षिणी राज्य मद्रास, हैदराबाद और त्रावंकोर विधान सभा चुनाव में कांग्रेस को बहुमत नही मिल सका था, वहां कम्युनिस्ट पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया था.

2005: ब्रिटेन के राजकुमार चार्ल्स और कैमिला की शादी की घोषणा

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption शादी के बाद राज परिवार के साथ राजकुमार चार्ल्स और कैमिला

आज ही के दिन 2005 में इस बात की आधिकारिक घोषणा की गई कि ब्रिटेन के राजुकमार एक लंबे समय से उनकी साथी रहीं कैमिला से शादी करेंगे.

शाही परिवार की तरफ़ से जारी बयान के मुताबिक़ उन दोनों की शादी आठ अप्रैल को होगी और शादी के बाद कैमिला को 'डचेज़ ऑफ़ कॉर्नवॉल' का ख़िताब दिया जाएगा.

इस घोषणा के बाद राजकुमार चार्ल्स के पुत्र राजकुमार विलियम और राजकुमार हैरी ने कहा कि वे दोनों इससे बहुत ख़ुश हैं और भविष्य में उनकी खुशी के लिए कामना करते हैं.

इस घोषणा ने वर्षों से गर्म रहे अटकलों के बाज़ार को समाप्त कर दिया.

राजकुमार चार्ल्स और कैमिला की पहली मुलाक़ात 1970 में हुई थी.

1996: डॉकलैंड बम धमाके के साथ ही आईआरए ने युद्घविराम समाप्त किया

आज ही के दिन 1996 में लंदन के डॉकलैंड इलाक़े में बम धमाके कर आयरलैंड रिपब्लिकन आर्मी ने 17 महीनों से चले आ रहे युद्धविराम की समाप्ति का एलान कर दिया.

आयरलैंड, ब्रिटेन और अमरीकी नेताओं के साझा प्रयासों से 17 महीने पहले युद्धविराम की घोषणा की गई थी लेकिन इस बम धमाके के साथ ही उन कोशिशों पर पानी फिर गया.

इस धमाके में दो लोग मारे गए थे.

अठ्ठारह महीनों के बाद आईआरए ने एक दफ़ा फिर युद्धविराम की घोषणा की लेकिन आख़िरकार स्थाई शांति का रास्ता मई 1998 में गुड फ़्राइडे संधि के बाद ही साफ़ हुआ.

इस समझौते को आयरलैंड और उत्तरी आयरलैंड के मतदाताओं ने भी स्वीकार किया.la

संबंधित समाचार