तैनाती से खुश नहीं था अमरीकी सैनिक

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption वकील जॉन ब्राउन का कहना है कि आरोपी सैनिक के साथ निष्पक्ष व्यवहार किया जाना चाहिए

अफगानिस्तान में 16 नागरिकों को गोली मारने के अभियुक्त अमरीकी सैनिक के वकील जॉन हेनरी ब्राउन का कहना है कि उनके मुवक्किल को इराक में तैनाती के दौरान जिस्म और मस्तिष्क में चोटें लगी थीं और वो अपनी अगली तैनाती पर जाने से खुश नहीं थे.

सैनिक का नाम लिए बिना जॉन हेनरी ब्राउन ने कहा कि वो इराक में अपनी तैनाती के तीन साल पहले ही पूरे कर चुके हैं.

उन्होंने ये भी कहा कि अफगान नागरिकों की हत्या से एक दिन पहले ही सैनिक के एक दोस्त का पैर धमाके की वजह से उड़ गया था और ये मंजर उसने अपनी आंखों से देखा था.

बीते रविवार को अमरीकी सैनिक ने जो गोलीबारी की थी, उसकी वजह से अमरीका और अफगानिस्तान के रिश्तों में तनाव बढ़ गया है.

नेटो हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त

इस बीच नेटो का एक हेलिकॉप्टर राजधानी काबुल के बाहरी इलाके में एक घर पर गिर गया है.

इसमें तुर्की के सैनिक सवार थे और हादसे की वजह से कम से कम 12 सैनिकों समते दो बच्चों को अपनी जान गंवानी पड़ी है.

अफगानिस्तान में इस वक्त तुर्की के 1800 से ज्यादा सैनिक तैनात हैं और पहला बड़ा हादसा है जिसमें तुर्की के इतने सैनिक मारे गए हैं.

पुलिस ने बीबीसी को बताया कि तकनीकी खामी की वजह से ये हेलिकॉप्टर दुर्घटना का शिकार हुआ.

अमरीकी सैनिक की ओर से रविवार की गोलीबारी की घटना से नाराज तालिबान ने शांति वार्ता रोक दी है जिसमें औरत, मर्द और बच्चों को नजदीक से गोली मारी गई थी.

हालांकि अमरीका ने जोर देकर कहा है कि तालिबान के इस रुख के बावजदू वो अफगानिस्तान के लोगों के साथ मेलजोल बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है.

वहीं अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करजई ने अमरीका से कहा है कि वो ग्रामीण इलाकों से अपने सैनिकों को वापस बुलाए और अफगान सुरक्षा बलों को तैनात होने दे ताकि नागरिकों की मारे जाने की घटनाओं को कम किया जा सके.

संबंधित समाचार