संदिग्ध हमलावर का समर्पण करने से 'इनकार'

टॉलूस इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption टॉलूस के इसी अपार्टमेंट के एक फ्लैट में छिपा है संदिग्ध हमलावर

फ़्रांस के टूलूज शहर में स्पेशल फोर्स और संदिग्ध हमलावर के बीच गतिरोध जारी है. अभी तक संदिग्ध हमलावर ने समर्पण से इनकार किया है, तो दूसरी ओर सैनिकों ने अपार्टमेंट को घेर रखा है.

मौके से गोलीबारी और धमाकी की आवाजें भी सुनाई दी हैं. घेराबंदी अब दूसरे दिन में प्रवेश कर गई है. मोहम्मद मेराह से बातचीत भी चल रही है, ताकि उन्हें समर्पण के लिए मनाया जा सके.

माना जा रहा है कि सात लोगों की हत्या के पीछे यही व्यक्ति हो सकता है. देर रात अपार्टमेंट के बाहर तीन धमाकों की आवाजें सुनी गई और वहाँ गोलीबारी भी हुई है.

लेकिन अभी तक संदिग्ध हमलावर को बाहर निकालने में फ्रांसीसी स्पेशल फोर्स को सफलता नहीं मिली है. अभी तक सरकारी तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है कि अपार्टमेंट के खास फ्लैट के अंदर जाने की कार्रवाई शुरू हुई है या नहीं.

तस्वीरों में- टूलूज में घेराबंदी जारी

23 वर्षीय मोहम्मद मेराह पर पिछले सोमवार को टूलूज में एक यहूदी स्कूल के बाहर गोलीबारी करके चार लोगों की हत्या का आरोप है. इसके अलावा पिछले सप्ताह दो अन्य हमले में तीन सैनिकों की हत्या का भी आरोप है.

आरोप

टूलूज से बीबीसी संवाददाता का कहना है कि देर रात हुए तीन धमाकों की वजह से आम तौर पर शांत रहने वाले इस रिहायशी इलाके में लोग चकित से रह गए.

पहले धमाके के बाद शहर के उप मेयर जॉ पियरे हार्विन ने स्थानीय मीडिया को बताया कि बातचीत खत्म हो गई है और कार्रवाई शुरू हो गई है.

हालाँकि फ्रांसीसी आंतरिक मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि ये कार्रवाई मेराह पर दबाव बनाने के उद्देश्य से की गई है. पुलिस ने मेराह से बातचीत तो की, लेकिन वे उन्हें समर्पण के लिए तैयार नहीं कर पाए.

बुधवार की सुबह पुलिस ने इस अपार्टमेंट की घेराबंदी उस समय शुरू की, जब दो पुलिस अधिकारियों पर गोलीबारी हुई. दरअसल ये अधिकारी फ्लैट में घुसने की कोशिश कर रहे थे.

अधिकारियों का कहना है कि मेराह के पास कलाशनिकोव राइफल, एक मिनी-उजी 9एमएम मशीन पिस्टल, कई हैंडगन और कुछ ग्रेनेड भी हो सकते हैं.

बुधवार शाम से ही इस अपार्टमेंट के आसपास के इलाकों में स्ट्रीटलाइट्स को बंद कर दिया गया है. इस पाँच मंजिला अपार्टमेंट को खाली करा लिया गया है और लोगों को आसपास की इमारतों में रखा गया है.

इस बीच शहर में पुलिस मेराह के सहयोगियों की तलाश कर रही है. पुलिस ने मेराह के कई परिजनों को भी हिरासत में लिया है.

मेराह की माँ को इस फ्लैट के पास इस उम्मीद में लाया गया था कि वे शायद अपने बेटे को समर्पण के लिए तैयार कर लें, लेकिन उनकी माँ ने पुलिस को बताया कि उनका बेटे उनके प्रभाव में नहीं है.

आतंकवाद निरोधक इकाई के प्रमुख फ्रैंको मोलिंस ने बताया कि बुधवार को मेराह और लोगों की हत्या के लिए निकलने वाला था.

दावा

उन्होंने बताया, "अगर मेराह की बात पर भरोसा करें, तो बुधवार को वो एक बार फिर सैनिकों की हत्या के लिए निकलने वाला था."

उन्होंने ये भी बताया कि मेराह के मुताबिक उन्हें अपने किए पर कोई खेद नहीं है और वो कई और लोगों को जान से मारना चाहता था, ताकि वो फ्रांस को झुका सके.

मेराह ने पुलिसवालों को ये भी बताया है कि वो फलस्तीनी बच्चों का बदला लेना चाहता था. मेराह ने ये भी दावा किया है कि उन्हें पाकिस्तान के वजीरिस्तान इलाके में अल कायदा का प्रशिक्षण मिला है और वे अफगानिस्तान भी गए हैं.

अफगानिस्तान के अधिकारियों ने बीबीसी को बताया है कि मेराह को 2007 में बम धमाके की साजिश रचने के मामले में कंधार की जेल में रखा गया था. लेकिन वर्ष 2008 में तालिबान के नेतृत्व में जेल तोड़ा गया और वे भाग निकले.

हालाँकि एक अन्य अफगान सूत्रों ने इस पर संदेह जताया है कि जिस व्यक्ति को कंधार की जेल में रखा गया था, वो मेराह थे.

संबंधित समाचार