समुद्री लुटेरों के खिलाफ यूरोपीय नौसेना अभियान तेज

समुद्री लुटेरे (फाइल) इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption समुद्री लुटेरे विश्व भर में एक बड़े खतरे के तौर पर उभरे हैं.

यूरोपीय संघ ने सोमाली समुद्री लुटेरों के खिलाफ कार्रवाई को तेज करने के लिए नई आक्रमण नीति को मंजूरी दे दी है जिसके तहत लुटेरों के जल और थल दोनों ठिकानों को निशाना बनाया जा सकेगा.

संघ इस बात के लिए तैयार हो गया है कि यूरोपीय नौ सेना के जंगी जहाज़ लुटेरों के नावों और समुद्र-तटों पर उनके तेल भंडारों को निशाना बना सकता है.

संघ ने लुटेरों के खिलाफ जारी अभियान को दो साल के लिए बढ़ाने का फैसला किया है यानी अभियान अब दिसंबर 2014 तक जारी रहेगा.

बीबीसी के सुरक्षा मामलों के संवाददाता फ्रैंक गार्डनर ने इसे अभियान में तेजी लाने वाला अहम कदम बताया है लेकिन कहा है कि इससे लड़ाई में बढ़ोतरी होने का खतरा भी है.

निगरानी-सुरक्षा

यूरोपीय नौ सेना के 10 जहाज उत्तरी-पूर्वी अफ्रीका में सोमाली समुद्री लुटेरों के खिलाफ कार्रवाई में लगे हैं.

ये जहाज समुद्री रास्तों की निगरानी करने के साथ-साथ क्षेत्र में भेजे जाने वाले मानवीय सहायता को सुरक्षा प्रदान करते रहे हैं.

स्पेन के विदेश मंत्री जोस मैनुयल गार्सिया ने संवाददाताओं से कहा है, "यूरोपीय संघ की योजना है कि जहाजों पर समुद्री लुटेरों के हमलों की सूरत में उनके थल ठिकानों पर कार्रवाई की आज्ञा दी जाए."

Image caption ब्रितानी महिला जुडिथ टिब्बट को लुटेरों ने छह महीने बंधक रखने के बाद छोड़ा.

उन्होंने कहा कि नागरिकों को क्षति से सुरक्षित रखने के लिए पूरी सावधानी बरती जाएगी.

बिजनेस मॉडल

यूरोपीय नौ सेना के कमांडर रियर एडमिरल डंकन पॉट्स ने बीबीसी से कहा कि नई योजना का लक्ष्य 'लुटेरों के बिजनेस मॉडल' को ध्वस्त करना है.

योजना के भीतर तटों पर मौजूद लुटेरों के ठिकानों को तहस-नहस करने पर जोर दिया जाएगा. हालांकि नौ सैना के अधिकारियों ने इस बात से इंकार किया है कि इसके बाद सैनिक दल जमीन पर भी सीधी लड़ाई में शामिल किए जाएंगे.

रियर एडमिरल डंकन पॉट्स ने कहा है कि यूरोपीय नौ सेना अपने अभियान में सफल रही है, "अगर आप पिछले साल पर नजर डालें तो 30 जहाजों को निशाना बनाया गया था और 700 लोग बंधक बनाए गए थे. अब ये आंकड़ा आठ जहाज और 200 बंधकों पर पहुंच गया है."

सहायता

यूरोपीय संघ से जारी बयान में कहा गया है कि वो सोमालिया की मौजूदा सरकार और दूसरी सोमाली संस्थाओं से सहायता हासिल करेगा.

फरवरी में लंदन में आयोजित एक सम्मेलन में समुद्री लुटेरों और आतंकवाद के खिलाफ अभियान को तेज़ करने और सोमालिया में राजनीतिक स्थिरता बहाल करने के लिए सहायता तेज करने का फैसला लिया गया था.

बुधवार को समुद्री लुटेरों ने एक ब्रितानी महिला को छह महीने तक बंधक बनाने के बाद रिहा किया.

टाइम्स अखबार ने दावा किया है कि महिला के परिवार ने लुटेरों को आठ लाख पाउंड की फिरौती अदा की. अखबार के मुताबिक फिरौती की रकम को विमान से नीचे फेंका गया.

संबंधित समाचार