इतिहास के पन्नों में 26 मार्च

अगर इतिहास के पन्नों को पलट कर देखा जाए तो इस तारीख को कई अहम घटनाएं घटी थी.

1979: इसराइल और मिस्र ने शांति समझौते पर हाथ मिलाए

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption इस हस्ताक्षर समारोह ने अरब जगत में एक खलबली मचा दी थी.

आज ही के दिन इसराइल और मिस्र ने 30 वर्ष से जारी युद्ध को विराम देते हुए अमरीका द्वारा कराए गए एक ऐतिहासिक शांति समझौते पर सहमति जताई थी. वाशिंगटन स्थित व्हाइट हॉउस में हुए इस समारोह का लाईव प्रसारण किया गया था.

दोनों देश के नेताओं ने अमरीकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर की मौजूदगी में एक दूसरे से गर्मजोशी के साथ हाथ मिलाए थे.

मिस्र के राष्ट्रपति अनवर-अल-सादात और इसराइल के प्रधानमंत्री मेनाचेम बेगिन ने इस समारोह को एक 'ऐतिहासिक मोड़' करार दिया था.

अनवर-अल-सादात ने राष्ट्रपति कार्टर की तारीफ़ करते हुए उन्हें इस 'चमत्कार' का श्रेय दिया था.

हालांकि राष्ट्रपति जिमी कार्टर इस समझौते को लेकर थोड़े ज़्यादा गंभीर दिखे थे और उन्होंने इसे एक लंबी दूरी में पूरा किया गया पहला फासला बताया था.

हालांकि एक हस्ताक्षर समारोह की खबर ने अरब जगत में एक खलबली मचा कर रख दी थी.

लगभग सभी अरब देशों में इस शांति समझौते के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन हुए थे और कुवैत स्थित मिस्र के दूतावास में तो प्रदर्शनकारियों ने हमला तक बोल दिया था.

1973: लंदन स्टॉक एक्सचेंज में महिलाओं की भर्ती

Image caption लंदन स्टॉक एक्सचेंज में महिलाओं की भर्ती के साथ आधुनिकरण की शुरुआत हुई.

आज ही के दिन एक ऐतिहासिक कदम लेते हुए लंदन स्टॉक एक्सचेंज ने अपने 200 वर्ष पुराने इतिहास में पहली बार महिलाओं की भर्ती शुरू की थी.

इसी वर्ष हुए चुनावों के बाद 10 निर्वाचित महिलाओं ने आज ही के दिन से लंदन स्टॉक एक्सचेंज में अपना कार्यभार संभाला था.

आर्थिक जगत में महिलाओं को बराबरी का दर्जा देने के लिए चले एक लंबे संघर्ष के बाद इस फैसले की घोषणा 1973 के फरवरी महीने में की गई थी.

गौरतलब है कि लंदन स्टॉक एक्सचेंज बनाने की कोशिश तब सफल हुई थी जब 150 ब्रोकरों ने वर्ष 1760 में इसकी नींव तब रखी थी जब उन्हें ब्रिटेन के सरकारी आर्थिक एक्सचेंज से अवमानना के आधार पर निकाल दिया गया था.

इस घटना के करीब 13 वर्ष बाद इन सदस्यों ने एकजुट होकर लंदन स्टॉक एक्सचेंज की नींव रखी.

संबंधित समाचार