पोप और कास्त्रो ने किया 'मज़ाक'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पोप और फिदेल कास्त्रो ने एकदूसरे से उम्र को लेकर मजाक भी किया.

क्यूबा की यात्रा पर पहुंचे पोप बेनेडिक्ट और क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो के बीच ‘सौहार्द्रपूर्ण माहौल में अंतरंग’ बातचीत हुई है और दोनों नेताओं ने मजाक भी किया है.

वेटिकन के एक प्रवक्ता ने इस बातचीत को सौहार्द्रपूर्ण और अंतरंग करार देते हुए कहा कि दोनों नेताओं ने अपनी बढ़ती उम्र के बारे में मजाक भी किए.

प्रवक्ता फेडेरिको लोम्बार्डी ने बताया कि दोनों नेताओं ने चर्च की धार्मिक आस्थाओं के बारे में लंबी बातचीत की और पाया कि भविष्य की चुनौतियों को सुलझाने में विज्ञान कई बार अक्षम क्यों हो है.

इस बैठक के दौरान फिदेल कास्त्रो ने ट्रैक सूट पहन रखा था. कास्त्रो ने पोप को बताया कि वो इस बात से बेहद खुश हैं कि पोप जॉन पॉल द्वितीय और मदर टेरेसा को संत की उपाधि दी जाने की प्रक्रिया शुरु हुई है.

कास्त्रो के अनुसार ‘‘पोप जॉन पॉल द्वितीय और मदर टेरेसा ने क्यूबा के लिए बहुत कुछ किया है और मदर ने तो गरीबों में भी गरीब लोगों के लिए अपना जीवन दे दिया.’’

ये साफ नहीं है कि इस बैठक के दौरान कास्त्रो ने पोप के संबोधन के दौरान उठाए गए राजनीतिक सवालों पर कोई बात की या नहीं की.

बुधवार को एक समारोह के दौरान पोप ने कहा था कि क्यूबा के लोगों को ‘सही मायनों में आजादी’ चाहिए.

पोप ने कहा कि क्यूबा को और खुले समाज का निर्माण करना चाहिए जहां सत्य और न्याय हो और अलग सोचने वालों के साथ भेदभाव न हो.

इससे पहले सैंटियागो में भी पोप ने कहा था कि उन्होंने उन लोगों के लिए प्रार्थना की है जो दुःख झेल रहे हैं और उन लोगों के लिए भी जिन्हें उनकी आज़ादी से वंचित कर दिया गया है.

इतना ही नहीं राष्ट्रपति राउल कास्त्रो से मुलाकात के दौरान पोप ने चर्च की बड़ी भूमिका की वकालत की और गुड फ्राइडे को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की अपील भी की.

संबंधित समाचार