शांति योजना के लिए राजी है सीरिया: अन्नान

फ़्री सीरिया आर्मी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption विद्रोहियों की फ़्री सीरिया आर्मी के सैनिकों को अब हर महीने वेतन मिलेगा.

कूटनयिकों के अनुसार सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र और अरब लीग के दूत कोफ़ी अन्नान ने कहा है कि सीरिया छह सूत्रीय शांति योजना पर 10 अप्रैल से अमल करने पर राजी हो गया है.

इस योजना के तहत संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में सभी पक्षो द्वारा युद्धविराम, शहरों ने भारी हथियारों और सैनिकों को हटाना और मानवीय सहायता मुहैया करवाने देना शामिल है.

कोफ़ी अन्नान संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद की एक बैठक को इस शांति योजना के बारे में बता रहे थे.

इस बीच सोमवार को भी सीरिया में हिंसा जारी रही है. इदलिब और होम्स शहरों में संघर्ष हुए हैं.

रेड क्रॉस

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption रेड क्रॉस प्रमुख कैलेनबर्गर सीरिया में हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे.

संयुक्त राष्ट्र की महासचिव रह चुके कोफ़ी अन्नान ने सुरक्षा परिषद से सीरिया की अगले मंगलवार की समयसीमा का साथ देने का आग्रह किया है.

सीरिया ने पिछले हफ़्ते कहा था कि उन्हें शांति योजना मंज़ूर है. लेकिन कूटनयिकों ने अन्नान के हवाले से ये भी कहा है कि राष्ट्रपति बशर अल-असद द्वारा अपने वादे पूरे करने के फिलहाल कोई संकेत नहीं मिले हैं.

कोफ़ी अन्नान के साथ बैठक के बाद संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी राजदूत सुज़न राइस ने कहा, “हमने वादे होते और टूटते देखे हैं.”

उन्होंने कहा कि बीते हुए दिनों का अनुभव उन्हें सजग करता है. सुज़न राइस ने चेतावनी देते हुए कहा कि ये भी संभव है कि सीरिया में हिंसा रुकने के बजाय और बढ़ जाए.

सीरिया में राजनीतिक परिवर्तन के समर्थक 83 देशों ने रविवार को कहा था कि राष्ट्रपति बशर अल-असद के बाद कोफ़ी अन्नान की शांति योजना को लागू करने के लिए ज़्यादा वक्त नहीं बचा है.

'सीरिया के दोस्त'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सीरियाई विपक्ष के नेता बुरहान गलियूं ने रविवार को तुर्की में एक प्रेसवार्ती की थी

फ़्रंड्स ऑफ़ सीरिया नाम के इस समूह ने एक बयान में कहा था, “ अन्नान की योजना को लागू करने की प्रतिबद्धता का अब कोई विकल्प नहीं है. ”

इस समूह ने कहा है कि अगर सीरिया शांति योजना पर अमल नहीं करता तो कोफ़ी अन्नान को दोबारा सुरक्षा परिषद में इस मुद्दे को उठाना चाहिए.

इस्तानबुल में हुई इस समूह की बैठक में खाड़ी के देशों ने विद्रोहियों की ‘फ़्री सीरियन आर्मी ’ को हर माह वेतन देने का भी ऐलान किया था.

इस बीच रेड क्रॉस के प्रमुख जेकोब कैलेनबर्गर दमिश्क जा रहे हैं. वे वहां रेड क्रॉस के अभियान को विस्तार देने पर बातचीत करने वाले हैं.

रेड क्रॉस ने एक बयान में कहा है कि कैलेनबर्गर हिंसा से प्रभावित इलाकों का दौरा भी करेंगे.

संबंधित समाचार