अमरीका बर्मा के खिलाफ पाबंदी में ढील देने को तैयार

सू ची इमेज कॉपीरइट AP
Image caption उप चुनाव में सू ची की पार्टी को अच्छी जीत मिली है

अमरीका ने कहा है कि वो बर्मा के खिलाफ लगाए गए प्रतिबंधों में कुछ नरमी बरतेगा. अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि यात्रा और वित्तीय पाबंदियों में कुछ ढील दी जाएगी.

अब बर्मा के नेताओं को अमरीका की यात्रा करने की अनुमति होगी. यूरोपीय संघ के नेताओं ने भी कहा था कि वे भी कुछ प्रतिबंधों को हटा लेंगे.

अमरीका की ओर से ये फैसला ऐसे समय में आया है जब हाल ही में बर्मा में हुए उप चुनाव में आंग सान सू ची के नेतृत्व वाली विपक्षी पार्टी ने ज्यादातर सीटें जीती हैं.

सू ची की पार्टी नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी ने उप चुनाव में 45 में से 40 सीटें जीती हैं. इस उप चुनाव को आम तौर पर स्वतंत्र और निष्पक्ष भी माना गया है.

फैसला

बर्मा में लोकतांत्रिक सुधारों पर अपनी टिप्प्णी में हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि अमरीका बर्मा में एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट का कार्यालय खोलने के लिए कदम उठाएगा और वहाँ एक पूर्णकालिक राजदूत भी भेजेगा.

आसियान की बैठक में भी कई नेताओं ने बर्मा के खिलाफ लगी सभी पाबंदियों को तत्काल हटाने की मांग की थी.

लंदन में ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने कहा कि यूरोपीय संघ के सदस्य बर्मा के खिलाफ कुछ पाबंदियों को शायद हटाना चाह रहे हैं.

लेकिन उन्होंने ये भी स्पष्ट किया कि इसका ये मतलब कतई नहीं है कि एकाएक बर्मा के साथ व्यापार पूरी तरह शुरू हो जाएगा.

उन्होंने कहा कि वे राजनीतिक कैदियों की रिहाई के लिए बर्मा पर दबाव बनाए रखेंगे.

उप चुनाव में एनएलडी को जबरदस्त जीत मिली है, लेकिन इन नतीजों से सत्ताधारी सैन्य सरकार पर कोई खास फर्क नहीं पड़ने वाला. क्योंकि अब भी संसद की करीब 80 प्रतिशत सीटों पर सेना के समर्थन वाली यूनियन सॉलिडरिटी एंड डेवलपमेंट पार्टी का कब्जा है.

संबंधित समाचार