बहते आँसुओं के बीच शावेज ने माँगी जान की दुआ....

इमेज कॉपीरइट AFP

दुनिया भर में इस्टर मास के तहत प्रार्थना सभाएँ की जा रही हैं. वेनेजुएला में भी राष्ट्रपति ह्यूगो शावेज ने इस्टर मास में हिस्सा लिया और प्रार्थन की.

लेकिन उनकी दुआ कुछ अलग थी. कैंसर से जूझ रहे शावेज ने ईसा मसीह से अपन जान की सलामती माँगी.

आँखों से बहते आँसुओं के बीच शावेज ने जीजस से कहा कि उन्हें अभी कई काम करने हैं और वे उन्हें जीने के लिए और समय दें.

शावेज क्यूबा में कैंसर का इलाज करा रहे थे और इस हफ्ते वेनेजुएल वापस लौटे हैं.

शावेज 1999 से सत्ता में है और अक्तूबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में दोबारा मैदान में उतर रहे हैं.

उन्हें किस प्रकार का कैंसर है इस बारे में जानकारी नहीं दी गई है. इस वजह से अटकलें लगाई जा रही हैं कि उनकी सेहत काफी खराब है.

वे ये स्पष्ट कर चुके हैं कि इलाज के लिए वे क्यूबा और वेनेजुएला आते जाते रहेंगे और कैंसर को हराने और चुनाव जीतने के मकसद में वे दृढ़ हैं.

पिछले साल क्यूबा में उनकी सर्जरी हुई थी और किमोथैरेपी के चार राउंड हुए थे. इलाज के बाद शावेज ने कहा था कि वे कैंसर मुक्त हैं लेकिन फरवरी में उन्हें फिर सर्जरी करवानी पड़ी.

इस बीच कम्यूनिस्ट देश क्यूबा में पिछले कई दशकों में पहली बार गुड फ्राइडे के दिन छुट्टी है. पोप ने पिछले हफ्ते ही क्यूबा की यात्रा की थी और उन्होंने तब इस कदम के लिए अनुरोध किया था.

क्यूबा सरकार ने कहा है कि उसने सम्मान के तौर पर छुट्टी घोषित की है. ये अवकाश केवल इसी साल के लिए घोषित किया गया है. सरकार के मुताबिक वो फैसला लेगा कि इस छुट्टी को स्थाई बनाया जाए या नहीं.

क्यूबा में 1959 की क्रांति के बाद धार्मिक छुट्टियाँ बंद कर दी गई थीं. 10 फीसदी से भी कम कैथलिक हैं. लेकिन सरकार के बाद चर्च ही सबसे प्रभावशाली संगठन है.

संबंधित समाचार