इनाम के लालच में तालिबान लड़ाके ने खुद किया समर्पण

मोहम्मद अशान इमेज कॉपीरइट washington post
Image caption गिरफ्तारी के बाद मोहम्मद अशान की उँगलियों पर निशान की फोरेंसिक जांच भी कराई गई.

अफगानिस्तान के सार हौजा इलाके में तालिबान के एक लड़ाके ने अपने ऊपर घोषित इनामी राशि को हासिल करने के लिए खुद ही जाकर पुलिस के समक्ष समर्पण कर डाला.

अमरीका के अखबार वॉशिंगटन पोस्ट में छपी इस खबर के मुताबिक एक मध्यम दर्जे के तालिबान कमांडर मोहम्मद अशान ने यह कदम इसलिए उठाया जिससे उन्हें अपने ऊपर रखी गई लगभग 5,000 रुपए की इनामी राशि मिल सके.

उन्होंने इलाके में स्थित एक पुलिस चौकी में खुद ही अपने नाम का निकाला गया इनामी पोस्टर सौंप कर पुलिस वालों से कहा कि उन्हें अब यह राशि सौंप दी जानी चाहिए.

हालांकि अखबार के मुताबिक उनके इस कदम से भौंचक्के रह गए अफगान अधिकारियों ने मोहम्मद अशान को तुरंत गिरफ्तार कर लिया.

'मैं ही हूँ अशान'

मोहम्मद अशान पर अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों पर कम से कम दो हमलों की साजिश रचने का संदेह है.

उनके इन्हीं कथित कारनामों के चलते सुरक्षा बलों ने उन पर रखे गए इनाम वाले पोस्टर सार हौजा इलाके में चिपका रखे थे.

हालांकि अशान के आत्मसमर्पण के बाद जब अमरीकी सुरक्षाकर्मी उनकी शिनाख्त करने पहुंचे तो दंग रह गए.

वाशिंगटन पोस्ट से हुई बातचीत में अमरीकी सैनिक मैथ्यू बेकर ने बताया, "हमने पूछा क्या तुम वही हो जिस पर इनाम है? वो बोला हाँ मैं ही हूँ मोहम्मद अशान. क्या अब मुझे इनाम मिल सकता है."

बाद में जब मोहम्मद अशान की फोरेंसिक जांच हुई तब इस बात की पुष्टि हो गई कि वो वही व्यक्ति थे जिन पर इनाम रखा गया था.

अखबार में छपी इस रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि अशान का आत्मसमर्पण उनकी तरह कई और तालिबान चरमपंथियों की मौजूदा हालत दर्शाने वाला कदम है.

संबंधित समाचार