पाकिस्तान में होगी निजी विमानों की जांच

पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption रक्षा मंत्रालय ने सभी निजी विमान कंपनियों की सुरक्षा की पूरी तरह जांच करने का आदेश दिया है

पाकिस्तान सरकार ने रविवार को दिए गए एक सरकारी आदेश में कहा है कि सभी निजी विमान कंपनियों को फिर से सुरक्षा की जांच करानी होगी.

पिछले शुक्रवार को भोजा एयरलाइंस 737 विमान कंराची से उड़ान भरने के बाद इस्लामाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निकट दुर्घटनाग्रस्त होकर एक रिहायशी इलाके में गिर गया था. इस विमान दुर्घटना में 127 लोगों के मारे जाने के बाद यह आदेश जारी किया है.

उस विमान दुर्घटना में मारे गए कुछ लोगों का अंतिम संस्कार कराची शहर के दक्षिणी इलाके में रविवार को कर दिया गया.

इस्लामाबाद के बाहरी इलाके के हुसैन आबाद गांव में भोजा एयरलाइंस का विमान खराब मौसम के कारण दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. विमान का मलबा काफी दूर तक बिखर गया था.

विमान दुर्घटना के कारण का पता लगाने के लिए हो रही जांच-पड़ताल के कारण भोजा एयरलाइंस के प्रमुख को देश से बाहर जाने रोक लगा दिया गया है

विमान का डेटा रिकार्डर मिल गया है और इसे विश्लेषण के लिए भेज दिया गया है.

सुरक्षा का प्रश्न

पाकिस्तान नागरिक उड्डयन प्राधिकरण के प्रमुख परवेज जार्ज ने समाचार एजेंसी एएफपी को कहा, “रक्षा मंत्रालय ने सभी निजी विमान कंपनियों की सुरक्षा की पूरी तरह जांच करने का आदेश दिया है.”

उन्होंने कहा, “सभी निजी विमान कंपनियों को जांच से गुजरना ही पड़ेगा लेकिन जांच इस तरह से की जाएगी कि उनके दैनिक उड़ानें प्रभावित न हो.”

पत्रकारों का कहना है कि लोगों ने सरकार पर हवाई सुरक्षा को लेकर कई तरह के आरोप लगाए हैं.

पिछले शुक्रवार को हुई यह हवाई दुर्घटना पिछले कुछ वर्षों में हुए पाकिस्तान में अपनी तरह की दूसरी सबसे बड़ी घटना है.

जुलाई 2010 में एयरब्लू एयरबस ए 321 इस्लामाबाद हवाई पर उतरते समय दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी जिसमें 152 लोग मारे गए थे.

भोजा एयर पाकिस्तान का एक छोटी व्यवसायिक एयरलाइंस है जो 1993 से पाकिस्तान में घरेलू उड़ान के व्यापार में है.

आर्थिक कारणों से उसे 2001 में अपनी उड़ानें रोकना पड़ी थीं. अभी थोड़े दिन पहले ही भोजा एयरलाइंस ने फिर से उड़ान भरनी शुरु की थी.

हालांकि पाकिस्तान में उड्डयन का धंधा काफी फल-फूल रहा है, लेकिन आलोचकों का कहना है कि इस क्षेत्र में तेजी के कारण सरकार सुरक्षा के स्तर पर ठीक से नजर नहीं रख पा रही है.

संबंधित समाचार