ब्रिटेना का सबसे लंबा आदमी?

फ्रेडरिक जॉन केंम्पस्टर
Image caption फ्रेडरिक जॉन केंप्स्टर ब्रिटेन के सबसे लंबे व्यक्तियों में से एक थे

उन्हें विशालकाय अंग्रेज़ कहा जाता था, लेकिन उन्हें विशालकाय दोस्त भी कहा जा सकता था.

उनका नाम था फ्रेडरिक जॉन केंम्पस्टर और वो जून 1911 में अमरीकी सर्कस में शामिल हुए, इसलिए नहीं कि वो कोई सनकी थे, बल्कि इसलिए कि उन्हें लोगों से प्यार था.

उनके एक रिश्तेदार जिम केंप्स्टर कहते हैं, “कहा जाता है कि वो खुश रहने वाले इंसान थे, लेकिन उनके बड़े शरीर के कारण उनके साथ कभी अनुचित व्यवहार नहीं हुआ."

फ्रेडरिक जॉन केंप्स्टर ब्रिटेन के सबसे लंबे व्यक्तियों में से एक थे. लीबर्न, नॉर्थ यॉर्कशायर में हाल ही में उनके कपड़ों की नीलामी हुई.

फ्रेडरिक का जन्म 1889 में हुआ और वर्ष 1918 में ब्लैकबर्न के क्वींस पार्क अस्पताल में उनकी मौत हुई.

उन्हें शहर के ही एक नौ फीट लंबे ताबूत में दफनाया गया. दस फीट लंबी उनकी कब्र को देखने छोटे-बड़े सभी लोग आते हैं. उन्होंने फ्रेडरिक के बारे में बहुत सुन रखा है और वो खुद अपनी आंखों से उन्हें देखना चाहते हैं.

वर्ष 1967 और 1993 के बीच केंप्स्टर का नाम ब्रिटेन के सबसे लंबे व्यक्तियों में से एक होने का लिए गीनिज बुक में दर्ज था.

मौत के वक्त उनकी लंबाई आठ फीट और साढ़े चार इंच थी. हालाँकि तस्वीरों से मिले सुबूतों के मुताबिक उनकी लंबाई सात फीट और साढ़े आठ इंच थी.

लंबाई पर बहस

Image caption 15 अप्रेल 1918 को 29 साल की उम्र में फ्रेडरिक जॉन केंप्स्टर की मौत हो गई

खुद छह फीट और चार इंच की लंबाई वाले जिम केंप्स्टर कहते हैं कि आज भी फ्रेडरिक की लंबाई को लेकर बहस होती है.

वो कहते हैं, “किंग जॉर्ज पंचम के राज्याभिषेक के वक्त आयोजित लंबे लोगों की एक परेड में वो सबसे लंबे व्यक्ति थे. 22 वर्ष की आयु के दौरान उनकी लंबाई सात फीट चार इंच थी. मीडिया और लोगों ने तब उनकी ओर ध्यान देना शुरू किया.”

वर्ष 1913 के दौरान उनकी लंबाई सात फीट नौ इंच थी और उनकी तस्वीरें दुनिया भर के अखबारों में छपीं.

कुछ अखबारों में लिखा गया कि उनकी छाती 50 इंच चौड़ी है और कलाई से लेकर उंगली के आखिरी सिरे तक की लंबाई 11 इंच है. कहा गया कि केंप्स्टर नाश्ते में छह अंडे और चार पावरोटी खाते थे.

बिस्तर छोटा पड़ गया

वर्ष 1897 में क्रिसमस के दिन उनके पिता की 50 साल की उम्र में मौत हो गई. उसके बाद से उनकी माँ ने घर के खर्चे की जिम्मेदारी संभाली.

उनकी देखभाल के लिए उन्हें कनाडा भेज दिया गया. वर्ष 1904 में 15 साल की उम्र में वो वापस इंग्लैंड आए क्योंकि उनके घुटने में कुछ समस्या थी. यहीं से उनकी लंबाई बढ़ने का सिलसिला शुरू हुआ.

वर्ष 1911 में वो सर्कस से जुड़ गए. वर्ष 1917 में उन्हें अस्पताल में इन्फ्लुएंजा की शिकायत के कारण अस्पताल में दाखिल करना पड़ा.

जब मीडिया को इस बारे में पता चला तो वो उनकी तस्वीर लेने अस्पताल पहुँचे. देखा तो उन्हें दो बिस्तरों को जोड़ कर उसपर लिटाया गया था.

इन्फ़्लुएंजा निमोनिया में बदला और 15 अप्रेल को 29 साल की उम्र में उनकी मौत हो गई.

संबंधित समाचार