साठ साल की महिला भिड़ी चीतों से

इमेज कॉपीरइट caters news agency
Image caption चीते ने महिला के सर पर हमला किया

दक्षिण अफ्रीका के एक पार्क में साठ साल की एक महिला को बच्ची को बचाने के लिए चीतों से भिड़ना पड़ा. ब्रिटेन की ये महिला पर्यटक ने बच्ची को तो बचा लिया, लेकिन उन्हें गहरी चोटें आई.

सिर पर चढ़े चीतों से बचने के लिए उस महिला ने मरे होने का नाटक किया, तब कहीं जाकर जानवरों ने उन्हें छोड़ा.

एबर्डीन की वॉयलेट डी मेलो पिछले हफ्ते पोर्ट एलिजाबेथ के क्रैगा कामा गेम पार्क में अपने परिवार के साथ छुट्टियां मनाने गईं थीं.

पार्क में चीतों के साथ फोटो खिंचवाने के लिए वे उनके बाड़े में घुस गए. पार्क के मैनेजर का कहना है कि उन्होंने अपने हाथों से पाल पोष कर इन चीतों को बड़ा किया है और ये चीते पालतू हैं.

बाड़े के अंदर चीते शांत बर्ताव कर रहे थे कि अचानक एक चीते ने एक छोटी लड़की पर हमला कर दिया.

ये देखकर वॉयलट उस लड़की को बचाने के लिए दौड़ी.

उन्होंने बताया, "ये सब बहुत जल्दी हुआ. चीते बहुत शांत दिख रहे थे. लेकिन एकाएक वे उत्तेजित हो गए. जब मैने लड़की को छुड़ाया तो उसका भाई भी उस ओर दौड़ा आ रहा था, मैनें उसे रोकने की कोशिश की लेकिन तभी मुझे महसूस हुआ कि कोई जानवर मेरे सिर पर पीछे से कूद पड़ा है."

पार्क में मौजूद एक गाइड ने उस चीते को महिला पर से भगाया लेकिन उन पर अब एक दूसरे चीते ने आक्रमण कर दिया.

वॉयलट ने कहा, "जैसे मेरे अंदर से आवाज़ आई कि बिल्कुल मत हिलो. ऐसा अभिनय करो की आप मर चुके हों."

गहरी चोट

वहां मौजूद दूसरे लोग उस महिला को बचाने आए, तब कहीं वो चीतों के चंगुल से छूट सकी.

उनके पति आर्ची ने कहा, "उनके पास छड़ी, लाठी या कोई भी हथियार नहीं था. किसी ने बाहर से एक छड़ी दी जिससे गाइड ने चीते के सिर पर वार किया. तब कहीं जाकर चीते ने मेरी पत्नी को छोड़ा."

आर्ची ने कहा कि उनकी पत्नी को गहरी चोटें आई. उन्होंने बताया, "उनके सिर पर और जांघों पर खरोंच आई हैं. उनके सिर से भी बहुत खून बह गया. लेकिन सबसे ज्यादा चोट उन्हें बाईं आंख में आई जहां चीते के पंजे धंस गए थे."

आर्ची ने अपनी पत्नी के बारे में कहा कि वो बहुत भाग्यशाली थी कि वो बच गईं.

संबंधित समाचार