समलैंगिकों की शादी के पक्ष में हैं बराक ओबामा

 गुरुवार, 10 मई, 2012 को 05:15 IST तक के समाचार

समलैंगिकों के विवाह का समर्थन करने वाले बराक ओबामा अमरीका के पहले राष्ट्रपति है

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एबीसी न्यूज को दिए एक साक्षात्कार में कहा है कि वे समलैंगिकों की शादी के पक्ष में हैं.

ओबामा का कहना है कि वे सोचते हैं कि समान लिंग यानि पुरुष-पुरुष और महिला महिला वाले भी एक दूसरे के साथ विवाह करने में सक्षम होने चाहिए.

हाल ही में उपराष्ट्रपति जो बाइडन और कैबिनेट सदस्य अर्ने डंकन ने भी समलैंगिकों के विवाह के लिए अपना समर्थन जताया था.

ओबामा का कहना है कि समलैंगिकों के विवाह पर उनके विचार तब बदले जब उन्होंने अपने ही कुछ कर्मचारियों को संबंधों के लिए प्रतिबद्ध पाया.

गैलप सर्वेक्षण

"समलैंगिकों के विवाह पर मैं थोड़ा संकोच करता था, इस बारे में मैं बड़ा संवेदनशील था क्योंकि कई लोगों के लिए शादी एक ऐसा शब्द है जो मजबूत परम्पराओं और धार्मिक मान्यताओं से जुड़ा है. लेकिन अब मेरा मानना है कि समान लिंग वाले भी विवाह करने में सक्षम होने चाहिए."

बराक ओबामा

ओबामा की इस टिप्पणी से एक दिन पहले ही अमरीका के नॉर्थ कैरोलिना राज्य ने उस संविधान संशोधन को मंजूरी दी है जिसमें समलैंगिकों के विवाह करने पर प्रतिबंध लगाया गया है.

मंगलवार को हुए गैलप सर्वेक्षण से संकेत मिला है कि अमरीका के पचास प्रतिशत लोग समलैंगिकों के विवाह को वैधानिकता प्रदान करने के पक्ष में हैं.

वहीं 48 प्रतिशत अमरीकियों का कहना है कि वे ऐसे किसी कदम का विरोध करेंगे.

राष्ट्रपति बराक ओबामा पर दबाव था कि वो इस मुद्दे पर अपनी राय जाहिर करें.

अमरीका में 31 राज्यों ने समलैंगिक विवाह के खिलाफ संविधान संशोधन किए हैं

इस वर्ष नवम्बर में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों में बराक ओबामा को कड़ी चुनौती देने का इरादा रखने वाले रिपब्लिक पार्टी के उम्मीदवार मिट रोमनी ने दोहराया है कि वो समलैंगिक विवाहों का समर्थन नहीं करते हैं.

वैसे समलैंगिकों के विवाह का समर्थन करने वाले बराक ओबामा अमरीका के पहले राष्ट्रपति है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.