समलैंगिकों पर ओबामा के बयान पर बँटा अमरीका

समलैंगिक इमेज कॉपीरइट NA
Image caption बराक ओबामा के समलैंगिकता के पक्ष में दिए गए बयान की खासी आलोचना भी हुई है

समलैंगिकों की शादी के पक्ष में बयान देने के लिए अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की जहां एक ओर प्रशंसा हो रही है तो वहीं दूसरी तरफ आलोचना. वह अमरीका के पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं जिन्होंने पद पर रहते हुए समलैंगिक विवाह का समर्थन किया है.

रुढ़िवादी और धार्मिक नेताओं ने उनके इस बयान की आलोचना की है.

इस बीच राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव प्रचार के दौरान राष्ट्रपति ओबामा के कैंप ने इस मुद्दे पर रिपब्लिकन पार्टी के मिट रोमनी पर जमकर हमला बोला है.

उनका कहना है कि मिट रोमनी इस मुद्दे पर सच्चाई से कहीं दूर हैं.

गुरुवार को ओबामा पश्चिमी तट पर स्थित सिएटल और लॉस एंजेलिस पहुँचे हैं और माना जा रहा है कि वह लाखों डॉलर की धनराशि अपने चुनावी कोष में जमा कर लेंगे.

उससे पहले ओबामा ने एबीसी न्यूज को दिए गए एक साक्षात्कार में कहा कि वे समलैंगिकों की शादी के पक्ष में हैं और उनके इस बयान की समलैंगिक अधिकारों के समर्थकों ने प्रशंसा की है.

प्रशंसा

मानवाधिकारों से जुड़ी संस्था ह्यूमन राइट्स कैंपेन के अध्यक्ष जो सोलमोनीस ने कहा कि राष्ट्रपति के इस वक्तव्य से घरों और चर्चों में इस मुद्दे पर चर्चा शुरु होगी.

लेकिन अमरीका के कॉन्फ्रेंस ऑफ कैथोलिक बिशप के प्रमुख टिमोथी डोलन ने ओबामा के इस बयान को 'खेदजनक' बताया है.

उन्होंने एक वक्तव्य में कहा कि ये बयान शादी जैसी संस्था को खोखला बना देता है, जो कि हमारे समाज का आधार है और हम इस पर चुप नहीं रह सकते.

उनका कहना था, "इस देश के लोग खासकर हमारे बच्चों को कुछ बेहतर विरासत मिलनी चाहिए."

गुरुवार की सुबह ओबामा ने इंटरनेट पर एक वीडियो जारी किया था जिसका शीषर्क था 'मिट रोमनी: बैकवर्डस एंड इक्वालिटी'.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बराक ओबामा ने एबीसी न्यूज को दिए गए साक्षात्कार में कहा था कि वे समलैंगिक विवाह के पक्षधर हैं

इस वीडियो को जारी कर उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव अभियान में लाभ उठाने की कोशिश की है.

विरोध

इस वीडियो में मिट रोमनी की एक क्लिप दिखाई गई थी जिसमें वे कह रहे है कि वो समलैंगिक विवाह का विरोध करते हैं साथ ही वीडियो में कहा गया है कि पूर्व रिपब्लिकन राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने भी सिविल यूनियन यानी वैधानिक रूप से साथ रहने के अधिकार का समर्थन किया था.

इस वर्ष नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनावों में बराक ओबामा के विरुद्ध रिपब्लिकन पार्टी के संभावित उम्मीदवार मिट रोमनी कहते रहे हैं कि वो समलैंगिक विवाहों का समर्थन नहीं करते.

रिपब्लिकन पार्टी के बहुमत वाले हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव यानी प्रतिनिधि सभा ने क्लिंटन के समय में आए विवाह रक्षा अधिनियम यानी डोमा पर बुधवार को बल दिया.

इस दौरान 171 के मुकाबले 245 सदस्यों ने न्याय विभाग को करदाताओं के फंड का इस्तेमाल इसके लिए न करने को कहा था जिसके तहत समलैंगिक विवाह को मान्यता देने पर रोक है.

ओबामा ने फरवरी 2011 में न्याय विभाग को डोमा का बचाव न करने का आदेश दिया था.

संबंधित समाचार