जहर देकर मारना चाहता है चीन: दलाई लामा

 रविवार, 13 मई, 2012 को 17:45 IST तक के समाचार
दलाई लामा

दलाई लामा को उम्मीद है कि चीन अपना कड़ा रवैया त्याग देगा.

तिब्बतियों के धर्मगुरु दलाई लामा ने अंदेशा ज़ाहिर किया है कि चीन ज़हर देकर उन्हें मार डालना चाहता है.

उन्होंने कहा है कि चीन ने कुछ जाली महिला भक्तों को इस काम को अंजाम देने के लिए लगाया है.

लंदन से छपने वाले संडे टेलीग्राफ़ अख़बार को दिए एक विशेष इंटरव्यू में दलाई लामा ने कहा है कि उन्हें ये सूचना तिब्बत से मिली है.

दलाई लामा ने कहा है कि चीन कुछ तिब्बती महिलाओं को ज़हर का इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग दे रहा है.

उनके मुताबिक इन महिलाओं के बालों और स्कार्फ़ में ज़हर होगा और ये भक्तों के भेष में आशीर्वाद लेने आएँगी ताकि उन्हें छू कर नुकसान पहुँचा सकें.

दलाई लामा ने कहा,“कुछ चीनी एजेंट कुछ तिब्बतियों, ख़ास तौर पर महिलाओं को ज़हर के इस्तेमाल की ट्रेनिंग दे रहे हैं – उनके बालों और स्कार्फ़ में ज़हर होता है. मुझसे आशीर्वाद लेने के लिए उन्हें मेरे हाथों को छूना होगा.”

अंतिम दलाई लामा?

"कुछ चीनी एजेंट कुछ तिब्बतियों, ख़ास तौर पर महिलाओं को ज़हर के इस्तेमाल की ट्रेनिंग दे रहे हैं – उनके बालों और स्कार्फ़ में ज़हर होता है. मुझसे आशीर्वाद लेने के लिए उन्हें मेरे हाथों को छूना होगा."

दलाई लामा

हालाँकि दलाई लामा ने ये भी कहा है कि उन्हें इस सूचना के शत प्रतिशत सच होने के बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है.

लेकिन चीन से उनके लगातार बिगड़ते संबंधों को देखते हुए दलाई लामा का ये बयान काफी महत्वपूर्ण हो जाता है.

उन्होंने ये भी कहा है कि उनकी मृत्यु के बाद उनके उत्तराधिकारी की तलाश में चीन के बढ़ते दखल का अंदेशा है.

दलाई लामा का कहना है कि इसका अर्थ ये हुआ कि उनकी मृत्यु के बाद चीन दलाई लामा की परंपरा को खत्म भी कर सकता है.

यानी फिर वो अंतिम दलाई लामा साबित होंगे.

चीन से अपने मतविरोध के बावजूद दलाई लामा ने कहा है कि उन्हें अब भी उम्मीद है कि उनके जीवन काल में ही चीन अपने कड़े रवैए को खत्म कर देगा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.