ओलांड ने की यूरोप में विकास की वकालत

मैर्केल और ओलांड
Image caption मैर्केल और ओलांड के बीच प्रेस कांफ्रेंस के दौरान साफ मतभेद दिखे.

फ्रांस के नए राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांड ने यूरोपीय संघ के आर्थिक संकट को सुलझाने के लिए जर्मनी के साथ मिल कर काम करने का संकल्प जताया है.

मंगलवार को राष्ट्रपति पद संभालने के चंद घंटों बाद जर्मनी के दौरे पर पहुंचे ओलांड ने बर्लिन में जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल के साथ साझा प्रेस कांफ्रेस में यूरोप के लिए आर्थिक विकास पर जोर दिया.

दोनों नेताओं ने कहा कि वे कर्ज में डूबे ग्रीस को साझा मुद्रा यूरो वाले 17 देशों के समूह यूरोजोन में बनाए रखना चाहते हैं. दोनों नेताओं के बीच 23 मई को औपचारिक शिखर बैठक होगी.

ओलांड ने कहा कि यूरोपीय संघ के आगामी शिखर सम्मेलन में हर किसी को ऐसे प्रस्ताव रखने चाहिए जिसने विकास को बढ़ावा मिल सके.

उन्होंने यूरो बॉन्ड की संभावना को भी इसमें शामिल किया ताकि कर्ज संकट से जूझ रहे यूरोजोन के देशों के लिए रकम जुटाई जा सके.

मतभेद कायम

जर्मनी यूरो बॉन्ड के विचार को हमेशा खारिज करता रहा है.

अपनी चुनावी मुहिम के दौरान ओलांड ने वादा किया था कि वह यूरोपीय संघ के वित्तीय समझौते की शर्तों को नए सिरे से तय करना चाहते हैं. इस समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले देशों के अपने बजट घाटे को एक निश्चित सीमा में रखना होगा, ताकि उन्हें आर्थिक जोखिम में फंसने से बचाया जा सके.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption डेढ़ दशक से भी ज्यादा समय बाद फ्रांस में कोई समाजवादी नेता राष्ट्रपति बना है.

मर्केल कह चुकी हैं कि इस समझौते की शर्तों को नहीं बदला जाएगा.

मर्केल के साथ साझा प्रेस कांफ्रेंस में ओलांड ने कहा, “फ्रांस का राष्ट्रपति होने के नाते मैं किसी निश्चित पड़ाव पर स्वीकार की गई बातों पर फिर से चर्चा करना चाहता हूं ताकि उन्हें आर्थिक विकास का आयाम दिया जा सके.”

इस मौके पर जर्मन चांसलर ने कहा कि फ्रांस और जर्मनी ग्रीस में अतिरिक्त विकास उपायों की संभावनाओं को तलाशने के बारे में इच्छुक हैं.

ग्रीस 170 अरब डॉलर के अंतरराष्ट्रीय राहत पैकेज को पाने के लिए कड़े बचत कदमों को लागू करने के लिए जद्दोजहद कर रहा है लेकिन उसे राजनीतिक और सामाजिक मोर्चे पर बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

संबंधित समाचार