नेटो मुद्दा: अमरीका और पाकिस्तान में तनाव

ज़रदारी और हिलेरी क्लिंटन इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption रविवार को राष्ट्रपति ज़रदारी ने हिलेरी क्लिंटन से मुलाकात की थी.

शिकागो में हो रहे नेटो सम्मेलन पर अफ़गानिस्तान में तैनात नेटो सेनाओं के लिए आपूर्ति का मामला अमरीका और पाकिस्तान के बीच तनाव का कारण बनता जा रहा है. दोनों देश इस मद्दे पर किसी सहमति पर पहुंचते नहीं दिख रहे हैं.

पिछले साल एक पाकिस्तानी चौकी पर अमरीकी हवाई हमले में 24 पाकिस्तानी सैनिक मारे गए थे. तब से पाकिस्तान ने अपने देश के भीतर से नेटो के लिए सामान ढोने वाले ट्रकों की आवाजाही पर रोक लगा रखी है.

शिकागो में हो रही नेटो देशों की इस बैठक का सोमवार को दूसरा दिन है. इस सम्मेलन में अफ़गानिस्तान और पाकिस्तान के राष्ट्रपति भी हिस्सा ले रहे हैं.

नेटो को आपूर्ति

अमरीका ने इस उम्मीद से जरदारी को नेटो सम्मेलन में बुलाया था कि वो पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा को नेटो की सप्लाई के लिए खोलने पर राजी हो जाएगा.

लेकिन पाकिस्तान ने अपनी सड़कों के इस्तेमाल के बदले में तीन मांगें रखी हैं. ये मांगे हैं - पाकिस्तानी सैनिकों की मौत के लिए सार्वजनिक क्षमा, पाकिस्तान के भीतर ड्रोन हमलों की अमरीकी नीति पर पुनर्विचार और पाकिस्तान की सड़कों का प्रयोग करने के लिए मौजूदा फीस को ढाई सौ डॉलर से बढ़ाकर पांच हज़ार डॉलर किया जाए.

अमरीकी विदेश मंत्री लियोन पनेटा सम्मेलन से पहले ही कह चुके हैं कि अमरीका पाकिस्तानी रास्ते के प्रयोग के लिए और अधिक पैसे नहीं दे सकता.

संवाददाताओं का कहना है कि अमरीकी राष्ट्रपति भी अधिक धन की मांग से खुश नहीं हैं क्योंकि अमरीका पहले ही पाकिस्तान को बड़ी रकम सहायता के तौर पर दे रहा है.

अमरीकी अधिकारियों ने कहा है कि जरदारी और ओबामा के बीच किसी द्विपक्षीय बैठक की योजना नहीं है, हालांकि पाकिस्तानी नेता रविवार शाम को अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन से मिले हैं.

सम्मेलन में अफ़गानिस्तान से नेटो सेनाओं की वापसी के बाद देश की सुरक्षा अफ़गान सुरक्षाबलों के हवाले किए जाने की योजना पर मोहर लगने के आसार हैं.

अमरीका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और जर्मनी समेत कुछ देशों ने नेटो सेनाओं की वापसी के बाद भी अफगान सुरक्षाबलों के लिए एक अंतरराष्ट्रीय कोष में योगदान देने का वादा किया है.

ऐसा माना जा रहा है कि अमरीका हर साल अनुमानित चार अरब डॉलर के कुल खर्चे का आधा हिस्सा देने के लिए तैयार है.

संबंधित समाचार