बिदवे की हत्या 'गैरइरादतन': स्टेपलटन

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption पिछले वर्ष दिसंबर में ब्रिटेन की एक सड़क पर गोली मारकर अनुज बिदवे की हत्या कर दी गई.

20 वर्षीय कायरन स्टेपलटन ने ब्रिटेन में पढ़ रहे भारतीय छात्र अनुज बिदवे की हत्या के मामले में खुद को दोषी माना है.

लेकिन स्टेपलटन ने हत्या की जगह गैरइरादतन हत्या का अभियोग स्वीकारा है.

मैनचेस्टर की अदालत ने मुकदमा की सुनवाई शुरू करने के लिए 25 जून की तारीख तय की है.

अनुज बिदवे की हत्या 26 दिसंबर को उस समय हुई थी जब वो छुट्टियां बिताने के लिए नौ अन्य भारतीय छात्र-छात्राओं के साथ ग्रेटर मैनचेस्टर गए हुए थे.

23 वर्षीय अनुज, ब्रिटेन में लंकास्टर यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग के छात्र थे. उन्हें सड़क पर एक व्यक्ति ने गोली मारी जिससे उनकी मौत हो गई.

उनकी हत्या के मामले में ब्रितानी पुलिस ने कायरन स्टेपलटन को अभियुक्त बनाया और वो तबसे हिरासत में थे.

गोली मारकर हत्या

अनुज और उनके दोस्त अपने होटल से सिटी सेंटर की तरफ जा रहे थे, तभी एक व्यक्ति सड़क पर आकर अनुज बिदवे से बात करने लगा.

इसके कुछ ही देर बाद उस व्यक्ति ने बंदूक़ निकाल ली और बिदवे की कनपट्टी पर करीब से गोली मार दी. हमलावर और उसका एक सहयोगी गोली चलाकर पैदल ही भाग निकले.

बिदवे को हमले के बाद अस्पताल ले जाया गया जहां कुछ ही देर बाद उनकी मौत हो गई.

अनुज का परिवार भारत के पुणे शहर में रहता है. इस हादसे के बाद उनका शव लेने के लिए उनके माता पिता ब्रिटेन गए थे.

अनुज का शव पुणे लाया गया जिसके बाद उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया.

अनुज बिदवे की याद में लैंकस्टर यूनिवर्सिटी ने एक छात्रवृत्ति शुरू करने का ऐलान किया.

यह छात्रवृत्ति पुणे विश्वविद्यालय के किसी स्नातक उत्तीर्ण छात्र को लैंकस्टर में इंजीनियरिंग के स्नातकोत्तर कोर्स के दौरान दी जाएगी.

संबंधित समाचार