हीरक जयंती के जश्न में डूबा ब्रिटेन

हीरा इमेज कॉपीरइट
Image caption तानी सेना के 2000 सैनिकों ने महारानी की ख़ास शाही सवारी के निकलने का पूर्वाभ्यास किया.

पूरा का पूरा ब्रिटेन इन दिनों मानों महारानी एलिजाबेथ के सिंहासन पर आरूढ़ होने की हीरक जयंती के उत्सवों की तैयारियों में मशगूल है. आठ फरवरी 1952 के दिन वे ब्रिटेन की महारानी घोषित की गईं थीं.

अगर ब्रिटेन की सेन अपनी चहेती महारानी को ख़ास सलामी देने की दिन रात तैयारियां में ज़मीन आसमान एक किए हुए है तो आम दुकानदार भी उम्मीद कर रहे हैं कि इस समारोह के चलते उनका सामान खूब बिकेगा. बर्मिंघम में महीन नक्काशी करने वाले वुलर्ड विगन कॉफ़ी के नन्हे से दाने पर महारानी का चित्र उकेर रहे हैं. लेकिन गल्स्गो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने महारानी के लिए अपनी कृतज्ञता को बहुत ही 'छोटे' ढंग से ज्ञापित किया है. इतने छोटे कि उसे सामान्य आँखों से देखा भी नहीं सकते. इन वैज्ञानिकों ने हीरे का सिक्का बनाया है जो एक मीटर का 580 अरबवां हिसा है. इस काम में लगे ग्लासगो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक डॉक्टर डेविड मोरान कहते हैं, " इतनी छोटी सतह पर नक्काशी करना बहुत ही कठिन है. इसके लिए हमने इलेक्ट्रौन की किरण से इतने छोटे हीरे की सतह पर चित्र बनाया." यह हीरा मनुष्य के बाल से 200 गुना छोटा है.

देश में इस उत्सव को मानाने के लिए विशेष छुट्टी घोषित की गई है.

खुदरा व्यापार के विशेषज्ञों का मानना है की अगले तीन दिनों में इस समारोह के चलते क़रीब 4300 करोड़ रुपयों का सामान बेचा जा सकता है. आप लंदन में किसी भी दुकान में जायें महारानी के तस्वीर आपको हर कहीं दिख जायेगी.

राजशाही बड़ा ब्रांड

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अगले तीन दिनों में इस समारोह के चलते क़रीब 4300 करोड़ रुपयों का सामान बेचा जा सकता है

ब्रांड विशेषज्ञ मेरी एलेन फील्ड आम लोगों में इस कदर उत्साह और बाज़ारों की रौनक के बारे में समझाते हुए कहती हैं, " हर किसी को उत्सव मनाना अच्छा लगता है, खास तौर पर जिस तरह के कठिन समय से हम गुज़र रहे है. और महारानी की हीरक जयंती एक अच्छा मौका है. और ब्रिटेन की राजशाही पूरी दुनिया में हमारा सबसे बहुमूल्य ब्रांड है." शुक्रवार को ब्रितानी सेना के 2000 सैनिकों ने महारानी की ख़ास शाही सवारी के निकलने का पूर्वाभ्यास किया. यह सवारी मंगलवार को निकलेगी. इसके पहले रविवार को महारानी शाही नाव पर सवार हो कर लंदन के बीचों बीच बहने वाली टेम्स नदी पर पर सात मील की यात्रा करेगीं. इस यात्रा में उनके साथ क़रीब 1000 भिन्न भिन्न किस्म के जहाज़ और नौकाएं शामिल होंगीं. शुक्रवार को प्रिंस चार्ल्स ने टेम्स नदी की यात्रा की तैयारियों में लगे लोगों मिल कर कर उनकी हौसला अफजाई की. ऐसा नहीं है कि ब्रिटेन का हर निवासी राजशाही का समर्थक हो लेकिन उत्सव समारोह मानाने के मेले में शामिल होने का मौका लगता है कोई नहीं चूकना चाहता.

संबंधित समाचार