'पूंजीवादी' फार्मूला वन पर छात्रों का विरोध

 रविवार, 10 जून, 2012 को 15:10 IST तक के समाचार
ग्रां प्री

प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हिंसक झड़पें हुईं.

कनाडा के मोन्ट्रियल शहर में पुलिस ने फॉर्मूला वन ग्रां प्री को रोकने का प्रयास कर रहे छात्रों को गिरफ्तार किया है.

रविवार को शुरू हो रहा फॉर्मूला वन ग्रां प्री, मोन्ट्रियल शहर में पर्यटकों को आकर्षित करने वाले सबसे बड़े समारोहों में से एक माना जाता है.

लेकिन छात्रों ने इसे 'पूंजीवाद का घिनौना प्रदर्शन' बताया है. छात्रों का विरोध शुरूआत में क्यूबेक प्रांत में बढ़ी ट्यूशन फीस के खिलाफ था लेकिन वो धीरे-धीरे व्यापक रूप अख्तियार करता जा रहा है.

गौरतलब है कि आर्थिक असमानता और कॉरपोरेट लोभ के खिलाफ अमरीका के कई शहरों में पिछले साल विरोध प्रदर्शन हुए थे.

इन्हें ‘वॉल स्ट्रीट आंदोलन’ और ‘कब्जा करो’ की संज्ञा दी गई, क्योंकि इसमें प्रदर्शनकारी अमरीका के शेयर बाजार और वित्तीय कंपनियों के दफ्तरों के पास की सड़क पर कब्जा जमाकर महीनों बैठे रहे थे.

लेकिन जब सरकार ने उन विरोध कैंपों को बंद करना शुरू किया तब आंदोलन की रफ़्तार कम हो गई थी.

हिंसक झड़पें

कुछ महिलाएं मानती हैं कि फॉर्मूला वन जैसे आयोजनों से यौन शोषण को बढ़ावा मिलता है.

मोन्ट्रियल शहर में छात्रों के प्रदर्शन तीन महीने पहले शुरू हुए थे और तबसे सैंकड़ों की तादाद में ये छात्र नियमित रूप से बरतन बजाते हुए सड़कों पर निकलते रहे हैं.

पिछले तीन दिन में इन प्रदर्शनों में तेजी आई और शनिवार रात इनकी पुलिस से हिंसक झड़पें हुईं.

प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की गाड़ियों पर स्प्रे पेन्ट किया और खिड़कियों के शीशे तोड़े.

इसपर पुलिस ने आंसूगास का इस्तेमाल किया और 12 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया.

छात्रों का ये विरोध क्यूबेक प्रांत में विश्वविद्यालय की बढ़ती फीस के खिलाफ शुरू हुआ था लेकिन अब उनका कहना है कि वो फॉर्मूला वन ग्रां प्री के भी खिलाफ हैं.

बढ़ते रोष से निपटने के लिए अधिकारियों ने ग्रां प्री के आयोजन के पास कड़ा पुलिस बंदोबस्त कर दिया है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.