पहले अपना घर ठीक करें मोदीः नीतीश

 सोमवार, 11 जून, 2012 को 16:39 IST तक के समाचार

नीतीश ने नरेंद्र मोदी को चुनाव में प्रचार के लिए नहीं आने दिया था

नरेंद्र मोदी द्वारा बिहार के नेताओं को जातिवादी कहने पर राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. बिहार के मुख्यमंत्री ने मोदी से कहा है कि पहले वे अपना घर ठीक करे, उसके बाद दूसरों के बारे में बात करें.

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के दिए गए बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, “हम दूसरों पर ज्यादा कमेंट नहीं करते हैं. लोगों को अपने हालात के बारे में सोचना चाहिए. बिहार सभी कमजोरियों से निकल कर प्रगति के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है."

वैसे नीतीश ने नरेन्द्र मोदी का नाम तो नहीं लिया, लेकिन परोक्ष रुप से नरेंद्र मोदी के बारे में बहुत कुछ कह दिया. उन्होंने कहा, “खुद के चलनी में 72 छेद है.”

अज्ञानी मोदी

"मोदी को इतिहास की जानकारी नहीं है, क्योंकि जातिवाद देश की सच्चाई है. क्या नरेंद्र मोदी बता सकते हैं कि गुजरात में जातिवाद नहीं है"

जनता दल यू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव

उधर जनता दल यू के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने कहा है कि नरेंद्र मोदी को अज्ञानी तक कह दिया.

उन्होंने कहा, "मोदी को इतिहास की जानकारी नहीं है.जबकि जातिवाद देश की सच्चाई है. क्या नरेंद्र मोदी बता सकते हैं कि गुजरात में जातिवाद नहीं है?"

दूसरी तरफ राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने नीतीश कुमार और सुशील मोदी, दोनों पर निशाना साधा.

लालू प्रसाद यादव ने कहा कि नीतीश-मोदी को इसका जवाब देना चाहिए

लालू प्रसाद यादव ने कहा है कि इस बात का जवाब नीतीश और सुशील मोदी दोनों को देना चाहिए क्योंकि उन दोनों के नेता नरेंद्र मोदी हैं, क्योंकि सभी एनडीए के सहयोगी हैं.

जातिवाद का जहर

रविवार को राजकोट में भारतीय जनता पार्टी के दो दिनों के राज्य सम्मेलन को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने बिहार के मुख्यमंत्री का नाम लिए बिना उन्होंने कहा, "हिंदुस्तान ने देखा है कि जो राज्य जातिवाद के जहर में उलझ गए उनका क्या हुआ. बिहार किसी समय कितना शानदार राज्य था लेकिन वहां के जातिवादी नेताओं ने उस राज्य को तबाह कर के रख दिया."

मोदी ने उत्तर प्रदेश का भी नाम लिया, हालांकि उन्होंने वहां के भी किसी नेता का नाम नहीं लिया था.

फिर भी उन्होंने उत्तर प्रदेश का भी जिक्र करते हुए कहा कि वहां के जातिवादी नेताओं ने "उत्तर प्रदेश का क्या हाल कर के रखा है."

नीतीश कुमार पिछले करीब सात सालों से अधिक समय से बिहार के मुख्यमंत्री हैं नरेंद्र मोदी से हमेशा दूरी बनाए रखने की कोशिश की है.

नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी के बिहार चुनाव प्रचार के लिए आने पर गठबंधन तोड़ने की धमकी तक दे दी थी और तो और, उन्होंने गुजरात की तरफ से बिहार में बाढ़ राहत के लिए भेजे गए पैसे भी लौटा दिए थे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.