मीडिया के साथ कोई सौदा नहीं किया - कैमरन

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption कैमरन ने ही फोन हैकिंग विवाद के बाद लेवेसन आयोग का गठन किया था

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने एक जाँच आयोग से कहा है कि उन्होंने कभी भी मीडिया के साथ कोई गुपचुप सौदा नहीं किया और ना ही उनके समर्थन के बदले में नीतियाँ बदली हैं.

डेविड कैमरन गुरूवार को लंदन में लेवेसन जाँच आयोग के सामने पेश हुए जो प्रेस के आचरण और राजनेताओं के साथ मीडिया के संबंध की समीक्षा कर रहा है.

सुनवाई में ब्रिटिश प्रधानमंत्री से मीडिया उद्योगपति रूपर्ट मर्डोक और उनके कई बड़े अधिकारियों के साथ उनके संबंधों के बारे में पूछा गया.

ब्रिटेन में मर्डोक की कंपनी की प्रमुख रेबेका ब्रूक्स के साथ कैमरन की दोस्ती रही है, जिनके पति कैमरन के सहपाठी थे.

इसके अलावा उन्होंने मर्डोक के एक अखबार के पूर्व संपादक ऐंडी कॉल्सन को ऐसा नहीं करने की तमाम सलाहों के बावजूद अपना मीडिया सलाहकार बना दिया था.

पूर्व प्रधानमंत्री गोर्डन ब्राउन ने आरोप लगाया था कि कैमरन की कंजर्वेटिव पार्टी ने मर्डोक के साथ एक सौदा किया था ताकि मर्डोक की मीडिया में कंजर्वेटिव पार्टी को समर्थन मिले.

मगर सुनवाई के दौरान कैमरन ने कहा कि ब्राउन के आरोप मनगढ़ंत हैं.

कैमरन ने कहा,"शुरू से आखिर तक, ये केवल बकवास है. मुझे लगता है कि गोर्डन ब्राउन इस बात से बेहद गुस्से में थे कि अखबार सन ने उनका साथ छोड़ दिया, इसके बाद से उन्होंने अपने गुस्से को जायज ठहराने के लिए एक काल्पनिक कहानी गढ़ ली."

जाँच

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने पिछले साल फोन हैकिंग विवाद के बाद लेवेसन आयोग का गठन किया था.

विवाद इस बात के सामने आने के बाद शुरू हुआ कि ब्रिटेन के एक नामी और कामयाब अखबार – न्यूज ऑफ़ द वर्ल्ड – के पत्रकार खबरें हासिल करने के लिए अवैध तौर पर नामी-गिरामी लोगों के मोबाइल फोन संदेश सुना करते थे.

ये भी पता चला कि पत्रकारों ने हत्या कर दी गई एक छात्रा और लापता हो गई एक बच्ची के घरवालों के भी फोन संदेश सुने.

इसके बाद हंगामा मचा और फिर प्रेस ही नहीं पुलिस और राजनेता भी इसके दायरे में आ गए.

अब लेवेसन आयोग दो चीज़ों के बारे में जाँच कर रहा है – एक समीक्षा ये हो रही है कि प्रेस, पुलिस और राजनेताओं का अलग-अलग व्यवहार कैसा था और उनके आपसी संबंध कैसे थे.

दूसरी जाँच ये हो रही है कि न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड की मालिक कंपनी रूपर्ट मर्डोक के न्यूज़ इंटरनेशनल और दूसरी मीडिया कंपनियों में क्या कुछ गैर-कानूनी और अनैतिक किया गया.

सुनवाई पिछले साल नवंबर में शुरू हुई थी और आयोग पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर, गोर्डन ब्राउन, मंत्रियों, रूपर्ट मर्डोक, उनके बेटे, पत्रकारों और कई नामी हस्तियों को सुनवाई के लिए बुला चुका है.

आयोग की सुनवाईयाँ अभी जारी हैं और लॉर्ड जस्टिस लेवेसन ने कहा है कि वे एक साल के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंप देंगे जिसे सार्वजनिक किया जाएगा.

संबंधित समाचार