नशे में मदहोश, प्लेन लेकर भागे पियक्कड़

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पियक्कड़ नशे में इतने मदहोश थे कि प्लेन ले उड़े

अगर मिल-बैठकर शराब पी रहे हों तो इतना मदहोश न हो जाएं कि पता ही नहीं चले कि आप कर रहे हैं. अगर ऐसा किया तो यह खतरनाक ही नहीं, जानलेवा भी हो जा सकता है.

रूस में ऐसा ही हुआ. पायलट अपने कुछ पियक्कड़ दोस्तों के साथ बैठकर शराब पीते समय गुलछर्रे उड़ा रहे थे. धीरे-धीर जब नशा तारी हुआ तो उनलोगों को कुछ ‘खास’ करने का मन किया.

वे सभी वहां से निकलकर बगल के एक हवाई अड्डे पर पहुंच गए जहां एक जहाज खड़ी थी. उनलोगों ने अपनी कार शेरोव शहर के हवाई पट्टी के बगल में रोकी और जहाज में बैठकर ‘सैर’ के लिए निकल पड़े. मजेदार बात यह है कि इस ‘सैर’ में शहर के ट्रैफिक पुलिस का प्रमुख भी शामिल हैं.

रूस के मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक एंटोनोव नाम के इस जहाज का अभी तक कोई पता नहीं चला है जबकि यह घटना सोमवार के रात की है. कहा जा रहा है कि उस प्लेन में नौ से तेरह लोग सवार हैं.

एंटोनोव नामक उस प्लेन का उपयोग जंगल में आग बुझाने में लाया जाता था. लेकिन प्लेन के गायब होने की खबर तब लगी जब प्लेन के सह चालक और कारीगर शहर से खरीददारी करके लौटे.

प्लेन में रेडियो नहीं लगा हुआ है और मदहोश पायलट के मोबाइल फोन की घंटी तो बज रही है लेकिन कोई जवाब नहीं मिल रहा है.

स्थानीय न्युज वेवसाइट युआरएएल56.आरयू के अनुसार प्लेन पर सवार मदहोश लोगों को खोजने में दो जहाज और तीन हेलीकॉप्टर सहित 70 पुलिसकर्मी लगे हुए हैं.

जहां से प्लेन लेकर वे लोग गायब हुए हैं वह क्षेत्र पहाड़ियों और जंगलों से घिरा है इसके चलते ‘गायब प्लेन’ को खोजने में भी परेशानी हो रही है.

अपुष्ट खबरों के मुताबिक जब पार्टी पूरे शबाब पर थी तो किसी ने मछली मारने का सुझाव दिया तो किसी और ने कहा कि वाष्प स्नान लिया जाए.

Image caption तेरह या आठ, जितने भी सवार हों, प्लेन के साथ किसी का पता नहीं है

प्लेन को लेकर जाने वाले पायलट खातिप कासापोव का 20 साल का अनुभव है और जिस कंपनी के लिए वह काम करता है, उसके अनुसार उन्हें बहुत ही आज्ञाकारी पायलट माना जाता है.

वेवसाइट एलइएनटीए.आरयू के अनुसार खातिप कासापोव अपने सहयोगियों के साथ ओरेनबर्ग शहर से आए थे और उन्हें तीन दिन की छुट्टी मिली थी. उसके बाद उन्हें फिर से अपने काम पर वापस लौटना था.

वेवसाइट के अनुसार सेरोव की आवादी एक लाख की है और वहां के हवाई अड्डे का इस्तेमाल बामुश्किल कभी-कभार होता है.

एरोड्रम की निदेशक वेलेनटिना सोबोलेवा का कहना है कि जब प्लेन आकर रुका था तो उन्हें काफी खुशी हुई थी. संयोग से वेलेनटिना का पति भी उस प्लेन में सवार है.

उनके आने की खुशी में वह पार्टी दी गई थी. उस पार्टी में शहर के ट्रैफिक पुलिस के प्रमुख डिमिट्री उषाकोव और उनके तीन सहयोगी भी शामिल थे. जब दूसरे पायलट और एक कारीगर पार्टी छोड़कर शहर की ओर चले गए तो उनलोगों को कुछ करने को सूझा और प्लेन को ले उड़े.

एक खबर के मुताबिक उषाकोव ने पार्टी से निकलते हुए किसी से कहा था कि वे केटल्याम जा रहे हैं. केटल्याम सेरोव से लगभग 266 किलोमीटर दूर का एक पहाड़ी गांव है जो सोवियत रुस के समय से पर्यटकों के लिए काफी मशहूर है.

वहां कोई हवाई अड्डा नहीं है, लेकिन वहां दो हैलीपैड जरूर है.

उसी वेवसाइट एलइएनटीए.आरयू के अनुसार अधिकतर पियक्कड़ों ने अपना मोबाइल हवाई अड्डे पर ही छोड़ दिया है.

नाम न छापने की शर्त पर सेरोव के एक पायलट ने बताया कि अगर उस जहाज की टंकी पूरी तरह भरी भी होती तब भी वह प्लेन आठ घंटे से ज्यादा का उड़ान नहीं भर सकती थी.

हवाई अड्डे की निदेशक सोबोलेवा भी कहती हैं कि उन्हें लोगों के ‘बचे होने का भरोसा भी अब लगभग खत्म’ ही हो गया है.

शुरुआती खबरों में कहा जा रहा था कि उसमें पायलट सहित 12 लोग सवार थे, जबकि कुछ मीडिया रिपोर्टों के अनुसार उसमें आठ लोग भी हो सकते हैं.

संबंधित समाचार