मंदी की मार शराबखानों पर

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption समूचे आयरलैंड में पबों के दरवाजों पर ताले लगते जा रहे हैं, लोग यहाण कम आने लगे हैं

आयरलैंड के परंपरागत पब यानी शराबखाने कभी सामुदायिक जीवन और समाज का केंद्र हुआ करते थे, लेकिन आज ये संकट के कठिन दौर से गुजर रहे है.

आयरलैंड में तमाम ऐसे लोग हैं, जो आर्थिक मंदी के चलते अपनी नौकरी गवाँ चुके हैं, या फिर उनके वेतन में कटौती कर दी गई है. इसके चलते उनके पास खर्च करने के लिए धन नही है.

एक दशक पहले, पब चलाने के लिए लाइसेंस की भारी मांग थी. लेकिन आज के दौर में पूरे आयरलैंड में इन पबों के दरवाजों पर ताले लगते जा रहे हैं.

मयखाने में लोग नहीं

पश्चिमी आयरलैंड के ग्रामीण इलाके कॉनेमारा में पार्टरिका वॉल्श अपने पति के साथ एक शराबखाना चलाती हैं, इसका छप्पर फूस वाला है और दीवारों पर सफेद पुताई की गई है. ये पब प्राकृतिक दृश्य का ही हिस्सा सा लगता है. यहाँ पर हर रोज कुछ नियमित लोगों का जमावडा़ लगा रहता है.

पार्टरिका कहती हैं,"आज यहाँ इसलिए लोग जमा हैं क्योंकि सुबह से ही मुसलाधार बारिश हो रही है और इन लोगों के पास करने को कोई काम नही है. साथ ही एक दिन पहले साप्ताहिक अवकाश के चलते लोगों में खुमारी थी इसलिए उन्होंने शराब पीने फैसला किया."

पार्टरिका याद करती हैं कि जबसे उन्होंने इस बार को बनाने का काम शुरू किया था, तबसे अब तक कितना वक्त बदल चुका है. पहले ये पब ग्रामीण जीवन का अभिन्न अंग हुआ करता था. रविवार के दिन का कार्यक्रम तय हुआ करता था, पहले चर्च और फिर पब में बैठकों का दौर.

पार्टरिका बताती हैं,"पहले सिर्फ पब ही वो जगह थी जहाँ हर कोई आया करता था. पब में लोग शराब का आनंद उठाते थे. उस समय दो बजे पब चलता था, उसके बाद चार बजे फिर पब खुल जाता था, लोग इसके खुलने का इंतजार किया करते थे. अब ये पूरे दिन खुला रहता है लेकिन लोग नही आते.

तमाम शराबखाने

गालवे शहर का मध्य भाग संकरी, भीड़-भाड़ से भरी गलियों वाली भूलभुलैया है.

यहाँ चमकीले रंगों वाले शराबखाने हैं. बारिश के बावजूद भी कुछ लोग बाहर लगी टेबल पर बैठकर शराब का आनंद उठाते हैं.

टैरी टायसन की उम्र 42 साल है और वो पर्यटकों के लिए गाइड का काम करते हैं.

टैरी कहते हैं, "पिछले तीन सालों में हर दिन आयरलैंड में एक पब बंद हो गया. इस तरह से लगभग हजार लाइसेंस भी खत्म हो गए. आयरलैंड में आर्थिक मंदी के चलते पबों पर बड़ा बुरा असर पड़ा है. हर जगह पैसा कम होता जा रहा है और पब में रात महंगी पड़ती है."

मंदी की मार

मौजूदा आर्थिक संकट के चलते शराबखानों पर मंडरा रहे संकट पर टैरी कहते हैं,"आयरलैंड में बिजनेस काफी कम हो गया है. दुर्भाग्य से पिछले दस सालों के मुकाबले काफी कम. अब वो बात नही रही. अब यहां लोग तभी आते हैं जब कोई विशेष आयोजन या समारोह हो."

पब समाज के लोगों की आर्थिक हैसियत को मापने के लिए एक तरह का आर्थिक पैमाना होते हैं. जब आर्थिक स्थितियाँ ठीक न हों तो लोग घर से बाहर निकलने में कतराते हैं.

आरयलैंड में हर तरह का व्यवसाय मंदा पड़ता जा रहा है, लेकिन आर्थक संकट के चलते शराबखानों के दरवाजों पर ताले लगते जा रहे हैं. लगता है कि इससे आयरिश लोगों की जीवन शैली भी कहीं हमेंशा के लिए न बदल जाए.

संबंधित समाचार