संगीतकार नहीं कंप्यूटर बनाएगा धुन

 रविवार, 24 जून, 2012 को 05:25 IST तक के समाचार
डार्विन का सिद्धांत

वैज्ञानिकों के अनुसार जिस तरह मानव का विकास हुआ है उसी तरह संगीत का विकास हुआ है

पुरी दुनिया में संगीत की एक लंबी परंपरा रही है. भारत में भी तानसेन और बैजु बावरा से ले लेकर ए आर रहमान तक एक से एक संगीतकार पैदा हुए हैं. अगर थोड़ा और पीछे चला जाए तो कृष्ण की बांसुरी को भला कौन भुला सकता है.

उसी तरह पश्चिमी देशों में भी शास्त्रीय संगीत से लेकर आधुनिक जैज़ और रॉक एन रॉल तक संगीत जीवन का एक अभिन्न अंग रहा है. आप सोचते होंगे कि संगीत की इन ऊचाईंयों को छूने के लिए संगीतकार की विशेष प्रतिभा की जरूरत पड़ती होगी.

लेकिन अब इस सोच को चुनौती दी जा रही है.

लंदन के इंपीरियल कॉलेज के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम तैयार किया है जो आपकी मन चाही धुन बना सकता है यानी कि अब संगीत की धुनों के लिए संगीतकारों की ज़रूरत नहीं पड़ेगी.

"आम तौर पर हम ऐसा नहीं सोचते कि संगीत का धीरे-धीरे विकास होता है. लेकिन वास्तविकता ये है कि हर संगीत का एक इतिहास होता है, एक परंपरा होती है. चाहे आप कॉगों का संगीत सुनें या अफ़्रीक़ा के कालाहारी रेगिस्तान में रहने वाले जनजातियों का संगीत सुनें दोनों में बहुत समानता है. उनकी परंपरा बहुत गहरी है. उनका भी विकास उसी तरह होता है जिस तरह जीव-विज्ञान के अनुसार मानव का विकास हुआ है."

प्रोफेसर अर्मंड लेरोए

इंपीरियल कॉलेज के वैज्ञानिक प्रोफेसर अर्मंड लेरोए और बॉब मैक्कलम ने मिलकर इस कंप्यूटर प्रोग्राम को बनाने का दावा किया है जिसे उन्होंने 'डार्विन ट्यून्स' का नाम दिया है.

कंप्यूटर संगीत

कॉलेज में जीव-विज्ञान के अध्यापक अर्मंड लेरोए कहते हैं कि अगर आपको ये लगता है कि संगीत की धुन बनाने के लिए संगीतकार का होना ज़रूरी है तो ऐसा नहीं है.

लेरोए के अनुसार, ''आम तौर पर हम ऐसा नहीं सोचते कि संगीत का धीरे-धीरे विकास होता है. लेकिन वास्तविकता ये है कि हर संगीत का एक इतिहास होता है, एक परंपरा होती है. चाहे आप कॉगों का संगीत सुनें या अफ़्रीक़ा के कालाहारी रेगिस्तान में रहने वाले जनजातियों का संगीत सुनें दोनों में बहुत समानता है. उनकी परंपरा बहुत गहरी है. उनका भी विकास उसी तरह होता है जिस तरह जीव-विज्ञान के अनुसार मानव का विकास हुआ है.''

'डार्विन टयून्स' परियोजना में शामिल दूसरे वैज्ञानिक बॉब मैक्कलम के अनुसार वे लोग आवाज से संगीत पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.

बॉब कहत हैं, ''हम बहुत ही अनियमित तरीके से किसी आवाज को चुनते हैं और उनसे पैदा होने वाली धुन या आवाज को लोगों को सुनाते हैं. ज्यादा लोग जिसे पसंद करते हैं उसे रखते हैं और शेष को छोड़ देते हैं.''

"हम बहुत ही अनियमित तरीके से किसी आवाज को चुनते हैं और उनसे पैदा होने वाली धुन या आवाज को लोगों को सुनाते हैं. ज्यादा लोग जिसे पसंद करते हैं उसे रखते हैं और शेष को छोड़ देते हैं."

बॉब मैक्कलम

बॉब के अनुसार इसी तरह लगभग 10 हज़ार आवाजों को जब कंप्यूटर ने एक साथ जोड़ा जब जाकर उन्हें उन आवाज़ों में एक लय और ताल महसूस होने लगा.

प्रोफेसर अर्मंड लेरोए के अनुसार इस प्रयोग का सबसे महत्वपूर्ण नतीजा ये था कि बिना संगीतकार की मदद से संगीत बनाई जा सकती है.

प्रोफसर लेरोए को इस प्रयोग के भविष्य में और सफल होने का पूरा विश्वास है.

वे कहते हैं, ''मुझे इसमें कोई शक नहीं कि अगर हम इस प्रयोग को बड़े और तेज कंप्यूटर की मदद से महीनों के बजाए वर्षों तक करें और इसमे केवल कुछ हज़ार लोगों की जगह लाखों लोग शामिल हों तो हम लोग एक बेहतरीन संगीत पैदा कर सकते हैं. और वो संगीत किसी व्यक्ति विशेष का नहीं बल्कि सही अर्थों में आम जनता का संगीत होगा.''

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.