फेसबुक चैट का संबंध सेहत से!

 शनिवार, 7 जुलाई, 2012 को 05:02 IST तक के समाचार

प्रोफेसर वेलेंट का सर्वेक्षण सोशल नेटवर्क और उसके असर पर आधारित है

एक सर्वेक्षण में सामने आया है कि फेसबुक और दोस्तों से रिश्ता इंसान की सेहत पर असर डाल सकता है और उसका व्यक्तित्व भी बदल सकता है.

सार्वजनिक स्वास्थ्य पर युनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफॉर्निया द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में सामने आया है कि लोगो के बीच आमने-सामने व ऑनलाइन बातचीत से बीमारियां दूर होती है और सेहत भी ठीक रहती है.

युनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉक्टर वेलेंट का कहना है कि चाहे किसी स्कूल में धूम्रपान रोकने की बात हो या किसी समुदाय में यौन बीमारियों के बारे में प्रचार की बात हो, ये समझना ज़रूरी है कि समाज में किस तरह की बातचीत का कैसा असर होता है.

उन्होंने कहा, “अगर मैं हाई स्कूल में जाना चाहूं और बच्चों की क्रीड़ा गतिविधियां और मोटापे से जुड़ी आदतों को बदलना चाहूं, तो उससे पहले मुझे ये समझना ज़रूरी होगा कि कई विद्यार्थी ऐसे भी होंगें जो अलग तरीके का व्यवहार रखेंगें.”

"कभी कभी हमें इस बात की चिंता होती है कि हमारे प्रयोग काम क्यों नहीं कर रहे हैं. स्वास्थय और सेहत से जुड़ी अच्छी आदतों का प्रचार तभी हो सकता है जब हम ये समझें कि समाज में सोशल नेटवर्क किस तरह से इन चर्चाओं पर असर डालता है."

प्रोफेसर वेलेंट, युनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफॉर्निया

प्रोफेसर वेलेंट का ये भी कहना है कि वे अलग-अलग समूहों के लिए अलग तरह का प्रयोग इस्तेमाल करेंगें.

उनका कहना है, “कभी कभी हमें इस बात की चिंता होती है कि हमारे प्रयोग काम क्यों नहीं कर रहे हैं. स्वास्थ्य और सेहत से जुड़ी अच्छी आदतों का प्रचार तभी हो सकता है जब हम ये समझें कि समाज में सोशल नेटवर्क किस तरह से इन चर्चाओं पर असर डालता है.”

प्रोफेसर वेलेंट का सर्वेक्षण सोशल नेटवर्क और उसके असर पर आधारित है.

उन्होंने अपने शोध में उन प्रयोगों का उल्लेख किया है जिससे कि सामाजिक स्तर पर होने वाली बातचीत का स्वास्थय पर होने वाले असर का पता लगाया जा सके.

ये सर्वेक्षण विश्व की चर्चित विज्ञान पत्रिका ‘साइंस’ के इस अंक में प्रकाशित होगा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.