आयरन लेडी दुनिया की 'सबसे धनी महिला'

दुनिया की सबसे धनी महिला जीना राइनहार्ट इमेज कॉपीरइट patrick hamilton photography

दुनिया की सबसे अमीर महिला कौन है? मशहूर अमरीकी टीवी शो मेजबान ओपरा विन्फ्रे, ब्रितानी महारानी एलिजाबेथ द्वितीय या फिर दुनिया की सबसे बड़ी सौंदर्य प्रसाधन कंपनी लोरियाल की कर्ताधर्ता लिलिएन बेनकोर्ट.

जवाब है इनमें से कोई नहीं. एक सम्मानित बिजनेस पत्रिका ने दुनिया की सबसे अमीर महिला का रुतबा ऑस्ट्रेलिया की खनन व्यवसायी जीना राइनहार्ट को दिया है, जिनके बारे में लोग ज्यादा नहीं जानते.

जीना के पास भी ज्यादा सुर्खियों में रहने के लिए वक्त नहीं हैं. खनन और उससे जुड़ी गतिविधियां ही उनके लिए जीवन हैं और यही जीवन की सुदंरता भी. जीना कहती हैं, “सुदंरता एक लोहे की खान है.”

रॉयल्टी की रकम

जब उनके पिता लांग हानकॉक ने 1950 के दशक के शुरुआती वर्षों में दुनिया का सबसे बड़ा लोहे का भंडार खोज निकाला था तो ऑस्ट्रेलिया में लोहे का निर्यात प्रतिबंधित था क्योंकि उस वक्त इसे बहुत दुर्लभ और सीमित संसाधन माना जाता था.

लेकिन बाद में पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में पिलबारा खनन क्षेत्र से लौह अयस्क के हजारों लदानों से मिलने वाली रॉयल्टी से जीना का परिवार अमीर होता चला गया और अब भी हो रहा है.

इस खनन क्षेत्र से फायदा उठाने वालों में इकलौता हॉनकॉक परिवार ही शामिल नहीं है. अरबों डॉलर की मालकिन जीना का कहना है कि उनके पिता की खोज ने ऑस्ट्रेलिया को भी समृद्ध बनाया. अब उनके परिवार को इस श्रेय भी मिलने लगा है.

उन्हें लंबे समय से शिकायत रही कि देश के विकास में उनके परिवार के योगदान को न तो ऑस्ट्रेलिया के पारपंरिक पूर्वी तट के धनाढ्य लोगों ने माना है और न ही स्थानीय मीडिया ने इसे तवज्जो दी.

'सोने की नदियां'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जीना इस बात से खुश हैं कि देश के विकास में उनके परिवार के योगदान को अब स्वीकारा जा रहा है.

जीना 29.3 अरब डॉलर की निजी संपत्ति के साथ हाल के वर्षों में ऑस्ट्रेलिया की सबसे अमीर महिला से एशिया की सबसे अमीर महिला बनीं और अब वो बेशक दुनिया की सबसे धनी महिला हैं.

ऑस्ट्रेलिया की बिजनेस पत्रिका बीआरडब्लू ने उन्हें दुनिया की सबसे अमीर महिला करार दिया है और सिटी ग्रुप का भी अनुमान है कि जल्द ही 58 वर्षीय जीना अपने नाम पर 100 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ दुनिया भर में अमीर लोगों की फेहरिस्त में सबसे ऊपर जा पहुंचेंगी.

उनके पिता की शुरुआती खोज से मिलने वाली रॉयल्टी की रकम से जीना की संपत्ति में लगातार इजाफा हो रहा है जिसे अकसर 'सोने की नदियां' कहा जाता है. इसके अलावा पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और क्वींसलैंड में खनन भी जीना की आमदनी का जरिया है.

वैसे जीना खुद को सिर्फ खनन उत्तराधिकारी कहलाना पसंद नहीं करतीं, बल्कि उनका कहना है कि 1992 में पिता की मौत के बाद उन्होंने अपनी कंपनी को एकदम नया स्वरूप दिया.

संबंधित समाचार