सीरिया: एलप्पो में सेना का बाग़ियों पर हमला तेज़

सीरिया का एलप्पो शहर इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सीरिया के शहर एलप्पो में सरकारी सुरक्षाबलों और बाग़ियों के बीच लड़ाई जारी है.

सीरिया के शहर एलप्पो में बाग़ियों के क़ब्ज़े वाले इलाक़ों पर सरकारी सुरक्षाबलों का हमला जारी है. हमले में तोप, सेना और हेलिकॉप्टर गनशिपों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

अधिकारियों का कहना था कि शहर के एक इलाक़े, सलाह अल-दीन पर सरकार ने फिर से क़ब्ज़ा कर लिया है लेकिन बाग़ियों का कहना था कि अभी लड़ाई चल रही है.

सयुंक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों के मुताबिक़ शहर में हिंसा तेज़ हो गई है. सयुंक्त राष्ट्र मिशन के नए प्रमुख बाबाकर गेए ने बताया कि उन्होंने ख़ुद होम्स शहर में भारी बमबारी और लड़ाई की वजह से रास्तान शहर में भारी नुकसान देखा था.

विरोधी दावे

एक हफ़्ते तक छिटपुट बमबारी और लड़ाकू विमानों से हमलों के बाद शनिवार को सरकारी सुरक्षाबलों ने एलप्पो पर ज़मीनी हमला बोल दिया.

लड़ाई का मुख्य केंद्र एलप्पो के दक्षिण-पश्चिम में सलाह अल-दीन इलाका था जहां बाग़ियों का जमावड़ा था.

सरकारी टेलीविज़न ने एल्लपो की फुटेज दिखाई और सैनिकों से इंटरव्यू किया जिन्होंने बताया कि उन्होंने रविवार को सलाह अल-दीन पर नियंत्रण कर लिया.

सोमवार को अधिकारियों ने दमिश्क़ में फिर से कहा कि उन्होंने उस इलाक़े को “पूरी तरह साफ़” कर दिया है.

लेकिन बाग़ियों ने सरकार के इस दावे को ख़ारिज करते हुए कहा कि वो इलाक़ा अब भी उनके क़ब्ज़े में था.

एलप्पो में फ्री सीरियन आर्मी के प्रमुख कर्नल अब्देल जब्बार अल-ओक़ायिदी ने एएफ़पी समाचार एजेंसी को बताया कि सरकारी सेना “एक मीटर भी आगे नहीं बढ़ पाई थी.”

शहर के साखुर इलाक़े से भी भारी बमबारी और मुठभेड़ों की ख़बरें आई हैं.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption रेड क्रॉस और सीरियाई अरब रेड क्रेसेंट संस्थाओं के अनुमानों के मुताबिक एलप्पो से अब तक लगभग दो लाख लोग भाग चुके हैं.

एएफ़पी के एक रिपोर्टर के मुताबिक़ एलप्पो के उत्तर-पश्चिम से पांच किलोमीटर दूर अनादन में एक चैकपॉइंट पर बाग़ियों ने क़ब्ज़ा कर लिया था.

संवादादाताओं का कहना है कि इस चैकपॉइंट पर क़ब्ज़ा करने से बाग़ियों को एलप्पो और तुर्की सीमा के बीच एक सीधा रास्ता मिल जाएगा.

लोगों का पलायन

इस बीच सयुंक्त राष्ट्र मानवीय प्रमुख बैरोनेस वैलरी एमोस ने कहा कि रेड क्रॉस और सीरियाई अरब रेड क्रेसेंट संस्थाओं के अनुमानों के मुताबिक़ एलप्पो से अब तक लगभग दो लाख लोग भाग चुके हैं. उनका कहना था शहर में फंसे लोगों को मदद की सख्त ज़रूरत थी.

एलप्पो से लौटे एक बीबीसी संवाददाता का कहना है कि लोग लगातार शहर छोड़ कर जा रहे हैं और वहां बाक़ी बचे लोगों का कहना है कि उन्हें खाने-पीने की चीज़ों, पानी और बिजली की कमी का सामना कर पड़ रहा है.

इस बीच सयुंक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने एलप्पो में लड़ाई के बारे में चिंता ज़ाहिर की है. उन्होंने कहा कि वे हेलिकॉप्टर समेत भारी हथियारों के इस्तेमाल से ख़ासतौर पर चिंतित थे.

बान की मून ने ये भी बताया कि रविवार को सयुंक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक दल के एक काफ़िले और उसके प्रमुख पर हमला हुआ था लेकिन उसमें कोई हताहत नहीं हुआ.

राजनयिक का इस्तीफ़ा

एक और घटना में लंदन में सीरिया के सबसे वरिष्ठ राजनयिक ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि ख़ालेद अल-अयूबी अब ऐसी सरकार का प्रतिनिधित्व नहीं करना चाहते जिसने अपने ही लोगों के ख़िलाफ़ हिंसक और दमनकारी क़दम उठाए हैं.

संबंधित समाचार