महँगाई पर ध्यान खींचने के लिए आत्मदाह

इसारल इमेज कॉपीरइट reuters
Image caption देश में हाल ही में आत्मदाह करने का दूसरा बड़ा मामला है.

इसराइल में एक अपंग पूर्व सैनिक के आत्मदाह की कोशिश के बाद उसकी हालत गंभीर बनी हुई है. इस पूर्व सैनिक ने तेल अवीव में आत्मदाह करने की कोशिश की थी. ये देश में हाल ही में आत्मदाह करने का दूसरा बड़ा मामला है.

माना जाता है कि इस व्यक्ति का पूर्व सैनिकों को पुनर्वास की सुविधाएं न दिए जाने को लेकर संबंधित अधिकारी से विवाद हो गया था.

वहाँ महँगाई के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान आत्मदाह की और भी कोशिशें हुई हैं लेकिन विफल रहीं.

इससे पहले सामाजिक न्याय को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान भी मोशे सिलमन ने खुद को आग लगा ली थी जिनकी शुक्रवार को मौत हो गई.

इसराइली पुलिस का कहना है कि आत्मदाह की कोशिश करने वाला अपंग व्यक्ति करीब चालीस वर्ष का था और उसने तेल अवीव के बस स्टॉप के सामने खुद को आग लगा ली.

आर्थिक समस्याएँ

वहां से गुजर रहे लोगों ने आग बुझाने की कोशिश भी की लेकिन उसके बावजूद इस व्यक्ति का शरीर 80 फीसदी जल चुका है.

ख़बरों के मुताबिक ये व्यक्ति पूर्व सैनिक है जो अपना कर्ज़ नहीं चुका पा रहा था.

इस व्यक्ति ने मोशे सिलमन से प्रभावित होकर आत्मदाह करने की कोशिश की थी.

सिलमन ने पेट्रोल छिड़ककर खुद को आग लगा ली थी. वह भी कर्ज़ के भारी बोझ तले थे और उन्होंने इसराइली सरकार को एक नोट लिख कर आरोप लगाया था, ''वो गरीबों से लेकर अमीरों को दे रही हैं.''

सिलमन का मामला सामने आने के बाद इसराइल निवासियों ने भारी संवेदनाएं प्रकट की और शनिवार की रात करीब हज़ार लोगों ने श्रदांजलि में भी भाग लिया.

प्रधानमंत्री बेंजमिन नेतन्याहू ने इस घटना को ''एक बड़ी मानवीय त्रासदी'' बताया था.

पिछले साल गर्मियों में भी इसराइल में असमानता और आर्थिक परेशानियों के खिलाफ विरोध की लहर उठी थी.

वहाँ कई लाख लोगों ने इन रैलियों में भाग लिया था जिसके तहत कई बड़ी रैलियां भी की गई थीं.

लेकिन आत्मदाह की घटनाएं नेतन्याहू की सरकार पर घरों के बढ़ते किरायों, खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतें और सामाजिक सेवाओं में सुधार लागू करने के वादों को पूरा करने का दबाव डालेंगीं.

संबंधित समाचार