खिलाड़ियों के लिए स्वर्णिम मौका: लिंबाराम

archer.
Image caption भारतीय तीरंदाज टीम के कोच लिंबाराम को पूरी उम्मीद है कि भारतीय खिलाड़ी ओलंपिक में अच्छा प्रदर्शन करेंगे.

लंदन ओलंपिक में भाग लेने गए भारतीय तीरंदाजी दल के कोच लिंबाराम से बीबीसी संवाददाता पंकज प्रियदर्शी की बातचीत के कुछ खास अंश....

ये बताइए कि प्रतियोगिता के पहले ही दिन तीरंदाजी के मुकाबले हैं....परेशान लग रहे हैं आप....?

बिल्कुल बहुत प्रेशर लग रहा है क्योंकि आते ही टीम थोड़ी डिसबैलंस हुई. टीम के कुछ लड़कों को सर्दी-खांसी और बुखार हुआ जिससे हम थोड़ा चिंतित हो गए. इससे नुकसान ये हुआ कि उनकी चार दिनों की ट्रेनिंग रुक गई. खैर पिछले दो दिनों से उनकी ट्रेनिंग फिर से शुरु हो गई है, और ये अभी भी जारी है. लड़कियों की प्रैक्टिस भी चल रही है, वैसे प्रदर्शन को लेकर ज्य़ादा दबाव नहीं है कि क्योंकि हम तीन-चार सालों से वर्ल्ड चैंपियन और नंबर वन की टीम रह चुके हैं और लड़कियों की टीम भी इस वक्त दुनिया की नंबर दो टीम है, उन्होंने ओलंपिक के लिए सीधा क्वॉलिफाई भी किया है. लेकिन इस तरह की छोटी-मोटी परेशानियां आ जाती हैं तो घबराहट बढ़ जाती है.

जैसा कि आपने खुद ही कहा है कि इस बार तीरंदाजी की टीम से काफी उम्मीदें हैं, एक कोच के तौर पर क्या आपको लगता है कि सभी की उम्मीदें पूरी होंगी.

बिल्कुल, भारतीय तीरंदाजी संघ और भारत सरकार ने हमारा पूरा समर्थन किया है जिस कारण खिलाड़ियों की काफी अच्छे तरीके से पूरे समय ट्रेनिंग चलती रही. इसके साथ जो कोच इनके साथ लंबे समय से जुड़े हैं, उनकी काफी अच्छी यूनिट बन गई है आपस में. यहां तक की टीम के भीतर पहली बातचीत करने का काफी अच्छा माहौल बना. ये सारी बातें काफी पॉजीटिव हैं और टीम को मेडल दिलाने में सहायक साबित हो सकती हैं. इसके अलावा जो टीम यहां लंदन ओलंपिक में भाग लेने आई है वो पिछले दो साल लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही है और हमने उसमें कोई बदलाव नहीं किया है.

महिला टीम के बारे आपकी क्या सोच है ?

ओलंपिक में पहली बार लड़कियों की इतनी अच्छी टीम भाग ले रही है. दीपिका कुमार लंबे अर्से अच्छा प्रदर्शन करती आ रही है और वो आसानी से पदक हासिल कर सकती है. टीम पदक जीतने में जरूर सफल होगा.

कितनी टेंशन महसूस हो रही है इस वक्त ?

हम प्रेशर भी महसूस कर रहे हैं और कई बार घबराहट भी हो रही है. टीम के सभी खिलाड़ी ये जानते हैं कि उनके लिए ये स्वर्णिम मौका है इसलिए हर कोई अपनी सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता है.

संबंधित समाचार