ईरान पर इसराइली हमले का समर्थन करेंगे रोमनी

मिट रोमनी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मिट रोमनी का कहना है कि राष्ट्रपति ओबामा ने इसराइल को कम महत्व दिया

अमरीका में अगले राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार मिट रोमनी इसराइल की यात्रा पर गए हैं.

उम्मीद की जा रही है कि रोमनी ये वादा कर सकते हैं कि राष्ट्रपति चुने जाने पर वे अमरीका और इसराइल के संबंधों को प्रगाढ़ बनाएंगे.

रोमनी के एक वरिष्ठ सहयोगी का कहना है कि वे ईरान को परमाणु हथियार बनाने से रोकने के लिए इसराइल के सैन्य हमले का समर्थन करेंगे.

विदेश दौरे के पहले चरण में रोमनी की लंदन यात्रा पर विवादों का साया रहा क्योंकि रोमनी ने ओलंपिक आयोजन के लिए लंदन की तैयारियों पर सवाल उठाया था.

लेकिन बाद में उन्होंने ये अनुमान भी व्यक्त कर दिया था कि लंदन ओलंपिक का आयोजन 'बेहद सफल' होगा.

दोस्ताना संबंध

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मिट रोमनी और बिन्यामिन नेतन्याहू अच्छे दोस्त हैं

मिट रोमनी, इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू और राष्ट्रपति शिमोन पेरेज़ से मुलाकात कर रहे हैं जिनसे उनके दोस्ताना संबंध रहे हैं.

मिट रोमनी का फलस्तीनी प्रधानमंत्री सलाम फय्याद से भी मिलने का कार्यक्रम है, लेकिन फलस्तीन के राष्ट्रपति मेहमूद अब्बास से मिलने की उनकी कोई योजना नहीं है.

विश्लेषकों के मुताबिक, रोमनी को उम्मीद है कि इसराइल-समर्थित रुख से उन्हें मौजूदा राष्ट्रपति बराक ओबामा को आगामी चुनाव में चुनौती देने में मदद मिलेगी.

रोमनी का कहना है कि राष्ट्रपति ओबामा ने इसराइल को कम महत्व दिया है और उसके शत्रुओं को समर्थन दिया है.

रोमनी इसराइल में एक भाषण में ये भी कह सकते हैं कि ईरान यदि परमाणु हथियार विकसित करता है तो ये 'बर्दाश्त' से बाहर होगा.

रोमनी के एक वरिष्ठ सलाहकार ने समाचार एजेंसियों से यहां तक कहा है कि ईरान को परमाणु हथियार बनाने से रोकने के लिए रोमनी इसराइली कार्रवाई का समर्थन करेंगे.

ओबामा की नीति

वैसे राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी सैन्य हस्तक्षेप से इनकार नहीं किया है और उनकी नीति में ईरान पर असैन्य तरीके से दबाव बनाने पर जोर दिया जाता रहा है.

बीबीसी के नॉर्थ अमेरिका एडिटर मार्क मर्डेल का कहना है कि रोमनी ईरान को लेकर अंतरराष्ट्रीय वार्ताओं के कड़े आलोचक रहे हैं और उन्हें लगता है कि ईरान इसकी वजह से यूरेनियम की कुछ मात्रा संवर्धित कर रहा है. लेकिन रोमनी चाहते हैं कि ईरान यूरेनियम का बिल्कुल भी संवर्धन न कर पाए.

अमरीका की विदेश नीति के बारे में रोमनी अपने भाषण में कहेंगे कि उन्हें इस बात की आशा है कि ईरान के खिलाफ सैन्य कार्रवाई के विकल्प से बचा जा सकता है लेकिन ये रास्ता भी खुला रहना चाहिए.

रोमनी का ये भी कहना है कि ये सबसे अच्छा समय है जब ईरान के नेता शांतिपूर्ण समाधान तलाशने के लिए अपना ध्यान केंद्रित कर सकते हैं.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक, रोमनी की चुनाव प्रचार से जुड़े एक सूत्र का कहना है कि रोमनी उन लोगों से भी सहमत हैं जिन्हें इस बात की चिंता है कि 'अरब-स्प्रिंग', 'इस्लामिक विंटर' में तब्दील हो सकती है.

संबंधित समाचार