सीरिया के लाखों शरणार्थी जार्डन में

 रविवार, 29 जुलाई, 2012 को 17:53 IST तक के समाचार

तमाम सीरियाई नागरिक हिंसा के चलते अपना घर-बार छोड़ कर सीमा पार जार्डन की शरण में जा रहे है.

सीरिया में सरकारी सेना ने देश के दूसरे सबसे बड़े शहर एल्लपो पर फिर से भारी हथियारों से हमले शुरु कर दिए हैं. एल्लपो विद्रोहियो का अब सबसे बड़ा गढ़ है.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि सरकारी सेनाएं विद्रोहियों को खदेड़ने के लिए पूरी ताकत लगा रही हैं. एल्लपो में रह रहे लोग इस संघर्ष के चलते भारी दिक्कतों का सामना कर रही हैं. शहर में बिजली नही है और अब खाने पीने के सामानों की कमी भी होती जा रही है.

जार्डन की शरण में

तमाम सीरियाई नागरिक हिंसा के चलते अपना घर-बार छोड़ कर सीमा पार जार्डन की शरण में जा रहे है.

संयुक्त राष्ट्र ने जार्डन में नया शरर्णाथी शिविर खोला गया है. ये शिविर सीमा वर्ती जतारी पर है. हांलाकि शुरुआत में यहाँ दस हजार लोग ही रह सकते है. पर लगता है कि अब इस शिविर में इनकी संख्या लाख तक पहुंच जाएगी.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि डेढ़ लाख लोग पहले ही जार्डन पहुंच चुके हैं.संयुक्त राष्ट्र ने दूसरे देशों से भी मदद के लिए आगे आने की अपील की है.

जार्डन में मौजूद संयुक्त राष्ट्र के एक सहायता कर्मी एंड्रू का कहना है कि उन्हें उम्मीद है कि अन्य देश भी आर्थिक मदद करेंगे.

उन्होंने कहा "हमें उधार लेना होगा, चाहें हमें चोरी ही क्यों न करनी पड़े,पर हमें इनके लिए पैसे जुटाने की सख्त जरुरत है. धन की कमी का बावजूद हमने दो हजार शिविर लगा दिए हैं, सीमित संसाधनों में हम जो कुछ, जितना अच्छा कर सकते हैं, कर रहे हैं."

जार्डन के विदेश मंत्री नासेर जुदेह का कहना है" जार्डन में ये पहला आधिकारिक शरणार्थी शिविर है. जैसा कि सब जानते है कि पिछले 16 महीनों में एक लाख 42 हजार सीरियाई हिंसा और हत्याओं के चलते यहाँ आ गए है. जार्डन ऐतिहासिक रुप से शरणार्थियों का पनाहगार बन गया है."

और मौंतें

नासेर जुदेह,विदेश मंत्री,जार्डन

"जार्डन में ये पहला आधिकारिक शरणार्थी शिविर है. जैसा कि सब जानते है कि पिछले 16 महीनों में एक लाख 42 हजार सीरियाई हिंसा और हत्याओं के चलते यहाँ आ गए है. जार्डन ऐतिहासिक रुप से शरणार्थियों का पनाहगार बन गया है."

इस बीच, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का कहना है कि पूर्वी शहर दायर एज-जोर में 17 लोग उस समय मारे गए जब टैंक की गोलाबारी का निशाना उनकी बस बन गई. ये लोग इलाका छोड़ कर भागने की कोशिश कर रहे थे. ,

सीरिया के विदेश मंत्री वालीद अल-मुल्लेम ईरान के वरिष्ठ अधिकारियों से बात करने के लिए ईरान गए हैं. ईरान मध्य पूर्व में सीरिया का सबसे निकट सहयोगी है और इसने सीरिया को कूटनयिक समर्थन दिया है

इससे पहले, संयुक्त राष्ट्र अध्यक्ष बान-की-मून ने सीरिया से कहा है कि वो साफ तौर पर कहे कि जंग में किसी भी हाल में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा.

संयुक्त राष्ट्र ने मई में जारी एक बयान में कहा था कि कम से कम 10,000 लोगों की मौत हो चुकी है.

सीरिया ने कहा था कि अबतक 6,947 लोग मारे जा चुके है जिसमें तीन हजार से अधिक आम शहरी थे, जबकि 2500 के आसपास सुरक्षाकर्मी.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.